#Instanbul #Shem #RocketShip: Is this a replica (see photo) of an #ancient single-seat rocket-ship? That’s what it looks like to Zecharia Sitchin, the leading authority and scholar on the Ancient Astronaut theory. Hidden away in the Istanbul Archaeology Museum in Turkey for a quarter of a century, Sitchin recently convinced the Museum that this artifact may indeed be ancient, and not the modern forgery they concluded it must be, simply because our current view of our ancient history doesn’t include rocket-ships. In his article in Atlantis Rising Magazine, Issue 15, Sitchin describes this object as,”a sculpted scale model of what, to modern eyes, looks like a cone-nosed rocket-ship… Powered by a cluster of four exhaust engines in the back surrounding a larger exhaust engine, the rocket-ship has room for a sole pilot—actually shown and included in the sculpture.” He describes the pilot as sitting with legs folded toward his chest, and wearing a one-piece “ribbed pressure suit” which becomes boots at the feet, and gloves at the hands, and points out that since the pilot’s head is missing, we cannot know whether the pilot wore a helmet, goggles, or other headgear. The artifact measures 23 centimeters long, 9.5 cm high, 8 cm wide, or 5.7 inches long, 3.8 inches high, and 3.5 inches wide.Sitchin spent years tracking down the artifact, until he located it at the #Archaeology #Museum in #Istanbul. It was excavated at #Toprakkale, a city known in ancient times as Tuspa, where the kingdom of Urartu reigned briefly over 2500 years ago. The museum curators decided this small artifact must be a forgery because it differs from the era’s style, and more importantly, it looks like a space capsule. They reasoned that since there were no space capsules in ancient times, it must be a modern fake, a practical joke, made of plaster of Paris and marble powder.from “De Goden en de Broederschappen” However, during Sitchin’s visit to Istanbul and the Museum in September 1997, he met with the Director, Dr. Pasinli, who took the artifact from a drawer, and allowed Sitchin to examine and photograph it. It looked to Sitchin to be carved from a porous, volcanic ash stone, the details very precise. Dr. Pasinli asked Sitchin what he thought. It is not out of context, Sitchin told the Director and his colleagues, when you view various artifacts that also seem to represent an ancient, space faring civilization. In Sitchin’s “The Lost Realms,” you’ll find illustrations of artifacts that may represent bearded spacemen and rocket-ships from Mexico, and from Lebanon, what might be a rocket-ship on a landing platform. He advised the Museum directors to allow viewers to decide for themselves what it is, while stating their own doubt about the artifact’s authenticity.This was enough to convince the curators to finally put the object on public display. Be sure to have a look for yourself next time you are in Istanbul.These beings who rode in these spaceships where either the good gods who were with #Yahweh the creator, or the #serpent men that #rebelled against Yahweh.

Advertisements

Pushpadanta – The author of the Shiva Mahima Stotra

Pushpadanta – The author of the Shiva Mahima Stotra
Long ago, there lived a gandharva by name Pushpadanta. Gandharvas were powerful magical beings, who could move in air and could even turn invisible to humans. Pushpadanta was an ardent devotee of Lord Shiva and was a great scholar and a poet. Because of his singing skills, Pushpadanta was appointed as the divine musician in the court of Lord Indra, the King of the Devas.
As a devotee of Lord Shiva, Pushpadanta loved worshiping Lord Shiva with plenty of different flowers.
Once as Pushpadanta was traveling around the world, he arrived at the kingdom of King Chitraratha. Pushpadanta was struck with the beauty of the kingdom. Slowly as he watched the kingdom he was stunned, the kingdom was surrounded by the most beautiful gardens and the flowers there was lovely to look at. He went to the palace of Chitraratha and was amazed to find the flowers even more beautiful there. When Pushpadanta saw the garden, he was unable to stop himself. He plucked as many flowers as possible…Pushpadanta felt bad that he was stealing flowers, but he could not help himself when he saw the flowers.
King Chitraratha to whom the gardens belonged, was also a devotee of Lord Shiva. He had developed this garden to pluck the flowers and use them for worshiping Lord Shiva daily.
However that day when he came to the gardens to worship Lord Shiva, he stared blankly as he saw most of the flowers gone. King Chitraratha called his guards, ‘What…What happened to the flowers?’
The guards looked nervously at each other and then at the king, ‘Sir! We do not know…We did not take it…We were doing the rounds of the palace. When we came…’ The guard shook his head, ‘the flowers were missing, your majesty!’
King Chitraratha looked at the guards and realized that they were telling the truth. He frowned as he plucked the pitifully few flowers from the tree. He finished his prayers that day and the next day appointed more guards to guard his gardens…
However much to his surprise, he looked at the shame faced guards the next day and saw most of the flowers missing today too! King Chitraratha fumed. After his prayers, he thought for some time.
He looked at the gardens and saw around saw all the other trees. He angrily called his guards, ‘Guard! Get those leaves and bring them here…’ He said pointing at the bilpatra plants.
The guards gathered the leaves and brought them before the king. ‘Spread them around the trees having the flowers….This way…When anyone walks over them, the leaves will rustle…you live hear the noise and be able to catch the thief…’ The king barked.
The guards nodded and spread the leaves around the trees.
The next day, Pushpadanta came inside the garden by becoming invisible. As he was walking towards the trees, he unknowingly stepped on the bilpatra leaves….
Up in Kailash, Lord Shiva was disturbed from his meditation. The bilpatra leaves were used to worship Lord Shiva and they were his favourite leaves. Lord Shiva frowned as he realized that someone had stepped on the leaves…Lord Shiva closed his eyes and used the powers to find out who had stepped on the bilpatra leaves. He opened his eyes as he realized that it was Pushpadanta. If it was a human who had committed this error, I would have forgiven him…but a gandharva…they are supposed to beings from heavens….they are supposed to know all this…’ Lord Shiva was angry as he thought… That man does not deserve to be a gandharva…And he is stealing the flowers from another…He is doing all this because he is invisible…Fine! I will take away his powers of being invisible and his powers to fly…
Back on earth, Pushpadanta was going towards the trees, when the guards, who had the rustling of the leaves ran towards the sound to find a tall gandharva coming towards the trees and plucking the flowers without any fear! They attacked the gandharva.
Pushpadanta was so amazed that the humans could see him that he was not able to defend himself. The guards caught him and took him to their king. King Chitraratha put Pushpadanta in prison.
As Pushpadanta was in prison, Pushpadanta slowly realized why he had suddenly become visible…The bilpatra leaves…Pushpadanta knew that he was made Lord Shiva very angry….
Anxious to regain his powers, Pushpadanta composed a sloka in favour of Lord Shiva. The sloka was beautiful to listen to…When Lord Shiva heard the sloka he was so pleased and that readily forgave the gandharva. This sloka is called as the Mahimnastava. The sloka is full of beautiful thoughts and meanings.
After Lord Shiva forgave Pushpadanta, Pushpadanta got back his powers. Pushpadanta met the King Chitraratha and asked for the king’s forgiveness. He promised that he would never steal again. The king was also amazed that the sloka composed by Pushpadanta and readily forgave him.
However the story of Pushpadanta does not end there. After composing the sloka, Pushpadanta grew very proud…He thought that he had written a sloka which was admired even by Lord Shiva.
He felt proud and boasted to everyone about how great his slokas were….Lord Shiva heard about this and came and talked him. ‘Pushpadanta! Do you know my temples, always have a Nandi outside…Why don’t you just go and peak inside Nandi’s mouth?
Pushpadanta was wondering why the Lord was making such a weird request…He went and looked inside Nandi’s mouth. Pushpadanta was taken aback to find that the entire sloka that he had composed was engraved in tiny letters in the teeth inside Nandi’s mouth!
Flabbergasted he ran back to Lord Shiva. Lord Shiva smiled and explained to him, ‘You are not the author of anything, Pushpadanta…It is the Brahman, which flows through you….All of this was written long ago…You are an instrument of the sloka coming out…’
Pushpandanta realized that he had been wrong in being proud of his composition, when he could not call the sloka his own composition. Pushpadanta asked the forgiveness of Lord Shiva and went back home and wiser man!

From Hinduism forgotten facts. 

ब्राह्मण के साथ भेदभाव, अत्याचार

सवर्णों में एक जाति आती है #ब्राह्मण, जिस पर

सदियों से राक्षस, पिशाच, दैत्य, यवन, मुगल, अंग्रेज, कांग्रेस, सपा, बसपा, वामपंथी, भाजपा, सभी राजनीतिक पार्टियाँ, विभिन्न जातियाँ आक्रमण करते आ रहे हैं।

आरोप ये लगे कि ~ब्राह्मणों ने #जाति का बँटवारा किया।

उत्तर – सबसे प्राचीन ग्रंथ वेद जो अपौरुषेय है और जिसका संकलन वेद व्यास जी ने किया, जो #मल्लाहिन के गर्भ से उत्पन्न हुए थे।

18 पुराण, महाभारत, गीता सब #व्यास जी रचित है

जिसमें वर्णव्यवस्था और जाति व्यवस्था दी गयी है।

रचनाकार व्यास ब्राह्मण जाति से नही थे।

ऐसे ही #कालीदास आदि कई कवि जो वर्णव्यवस्था और जातिव्यवस्था के पक्षधर थे जन्मजात ब्राह्मण नहीं थे।

अब मेरा प्रश्न सभी विरोध करने वालो से—

कोई एक भी ग्रन्थ का नाम बताओ जिसमें जाति

व्यवस्था लिखी गयी हो और उसे ब्राह्मण ने लिखा हो?

शायद एक भी नही मिलेगा। मुझे पता है तुम #मनु स्मृति का ही नाम लोगे, जिसके लेखक मनु महाराज थे, जो कि #क्षत्रिय थे।

मनु स्मृति जिसे आपने कभी पढ़ा ही नही और पढ़ा भी तो टुकड़ों में कुछ श्लोकों को जिसके कहने का प्रयोजन कुछ अन्य होता है और हम समझते अपने विचारानुसार है।

मनु स्मृति पूर्वाग्रह रहित होकर सांगोपांग पढ़े।

छिद्रान्वेषण की अपेक्षा गुणग्राही बनकर पढ़ने पर

स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

अब रही बात ” ब्राह्मणों “ने क्या किया ?तो नीचे पढ़े।

(1)#यन्त्रसर्वस्वम् (इंजीनियरिंग का आदि ग्रन्थ)- भरद्वाज

(2)#वैमानिक शास्त्रम् (विमान बनाने हेतु) – भरद्वाज

(3)#सुश्रुतसंहिता (सर्जरी चिकित्सा)-सुश्रुत

(4)#चरकसंहिता (चिकित्सा)-चरक

(5)#अर्थशास्त्र (जिसमें सैन्यविज्ञान, राजनीति,

युद्धनीति, दण्डविधान, कानून आदि कई महत्वपूर्ण

विषय है)-कौटिल्य

(6)#आर्यभटीयम् (गणित)-आर्यभट्ट

ऐसे ही छन्दशास्त्र, नाट्यशास्त्र, शब्दानुशासन,

परमाणुवाद, खगोल विज्ञान, योगविज्ञान सहित

प्रकृति और मानव कल्याणार्थ समस्त विद्याओं का संचय अनुसंधान एवं प्रयोग हेतु ब्राह्मणों ने अपना पूरा जीवन भयानक जंगलों में, घोर दरिद्रता में बिताए।

उसके पास दुनियाँ के प्रपंच हेतु समय ही कहाँ शेष था?

कोई बताएगा समस्त विद्याओं में प्रवीण होते हुए भी, सर्वशक्तिमान् होते हुए भी ब्राह्मण ने पृथ्वी का भोग करने हेतु गद्दी स्वीकारा हो?

विदेशी मानसिकता से ग्रसित कुछ विचारको ने गलत तरीके से तथ्य पेश किये। आजादी के बाद #इतिहास संरचना इनके हाथों सौपी गयी और ये विदेश संचालित षड्यन्त्रों के तहत देश मे भ्रम फैलाने लगे।

ब्राह्मण हमेशा ये चाहता रहा कि राष्ट्र शक्तिशाली

हो, अखण्ड हो,न्याय व्यवस्था सुदृढ़ हो।

सर्वे भवन्तु सुखिन:सर्वे सन्तु निरामया:

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दु:ख भाग्भवेत्।।

का मन्त्र देने वाला ब्राह्मण,वसुधैव कुटुम्बकम् का पालन करने वाला ब्राह्मण, सर्वदा काँधे पर जनेऊ कमर में लंगोटी बाँधे एक गठरी में लेखनी, मसि, पत्ते, कागज और पुस्तक लिए चरैवेति चरैवेति का अनुसरण करता रहा। मन में एक ही भाव था लोक कल्याण।

ऐसा नहीं कि लोक कल्याण हेतु मात्र ब्राह्मणों ने ही काम किया। बहुत सारे ऋषि, मुनि, विद्वान्, महापुरुष अन्य वर्णों के भी हुए जिनका महत् योगदान रहा है।

किन्तु आज ब्राह्मण के विषय में ही इसलिए कह रहा हूँ कि जिस देश की शक्ति के संचार में ब्राह्मणों के त्याग तपस्या का इतना बड़ा योगदान रहा।

जिसने मुगलों यवनों, अंग्रेजों और राक्षसी प्रवृत्ति के लोंगों का भयानक अत्याचार सहकर भी यहाँ की संस्कृति और ज्ञान को बचाए रखा।

वेदों शास्त्रों को जब जलाया जा रहा था तब

ब्राह्मणों ने पूरा का पूरा वेद और शास्त्र #कण्ठस्थ

करके बचा लिया और आज भी वो इसे नई पीढ़ी में संचारित कर रहे है वे सामान्य कैसे हो सकते है?

उन्हे सामान्य जाति का कहकर #आरक्षण के नाम पर सभी सरकारी सुविधाओं से रहित क्यों रखा जाता है ?

ब्राह्मण अपनी रोजी रोटी कैसे चलाये ? ब्राह्मण/

सामान्य वर्ग को देना पड़ता है पढ़ाई के लिए सबसे ज्यादा फीस और सरकारी सारी सुविधाएँ obc, sc, st, अल्पसंख्यक के नाम पर पूँजीपति या गरीब के नाम पर अयोग्य लोंगों को दी जाती है।

मैं अन्य जाति विरोधी नही हूँ लेकिन किसी ने

ब्राह्मण/सामान्य वर्ग से भेद भाव के विरूद्ध अवश्य हूं।

इस देश में गरीबी से नहीं जातियों से लड़ा जाता है। एक ब्राह्मण/सामान्य वर्ग के लिए सरकार कोई रोजगार नही देती कोई सुविधा नही देती।

एक ब्राह्मण बहुत सारे #व्यवसाय नही कर सकता जैसे — पोल्ट्रीफार्म, अण्डा, मांस, मुर्गीपालन, कबूतरपालन, बकरी, गदहा,ऊँट, सूअरपालन, मछलीपालन, जूता,चप्पल, शराब आदि, बैण्डबाजा और विभिन्न जातियों के पैतृक व्यवसाय क्योंकि उसका धर्म एवं समाज दोनों ही इसकी अनुमति नही देते।

ऐसा करने वालों से उनके समाज के लोग सम्बन्ध नहीबनाते।

वो शारीरिक #परिश्रम करके अपना पेट पालना चाहे तो उसे मजदूरी नही मिलती, क्योंकि तमाम लोग ब्राह्मण से सेवा कराना उचित नही समझते है।

हाँ उसे अपना घर छोड़कर दूर मजदूरी, दरवानी आदि करने के लिए जाना पड़ता है। कुछ को मजदूरी मिलती है कुछ को नहीं।

अब सवाल उठता है कि ऐसा हो क्यों रहा है? जिसने संसार के लिए इतनी कठिन तपस्या की उसके साथ इतना बड़ा अन्याय क्यों?जिसने शिक्षा को बचाने के लिए सर्वस्व त्याग दिया उसके साथ इतनी भयानक ईर्ष्या क्यों?

मैं बताना चाहूँगा कि ब्राह्मण को किसी जाति विशेष से द्वेष नही होता है। उन्होंने शास्त्रों को जीने का प्रयास किया है अत: जातिगत छुआछूत को पाप मानते है।

मेरा सबसे निवेदन –गलत तथ्यों के आधार पर उन्हें क्यों सताया जा रहा है ?उनके धर्म के प्रतीक शिखा और #यज्ञोपवीत, वेश भूषा का मजाक क्यों बनाया जा रहा हैं ?

#मन्त्रों और पूजा पद्धति का #उपहास क्यों किया जा रहा है ?

विश्व की सबसे समृद्ध और एकमात्र वैज्ञानिक भाषा #संस्कृत को हम भारतीय हेय दृष्टि से क्यों देखते है?

हर युग में ब्राह्मण के साथ #भेदभाव, #अत्याचार होता

आया है आखिर क्यों?

Vedic scriptures and culture.


Revealed Vedic scriptures is original knowledge of this world but at present many Indians by believing in Aryan invasion theory, false western theories like Darwin evolution theory which Darwin himself could not prove and still remains challenged, are giving discredit to Vedic Sages. After independence atleast Indians should start believing in their culture & civilization then what western scientists say.

Perhaps Indians are ignorant about Puranic Manvantar history which calculates cyclical time as per 4 Yugas, Mahayugas, Manvantar & Kalpa and which disapproves evolution of humans from Apes which is a western Adamic-Abrahamic concept.

Infact advanced Aryan culture originated from the start of Bramha’s day during स्वयंभुव मनु or मन्वंतर in Northern India known as the land of ब्रम्हावर्त were the Vedic literatures were revealed to the Vedic Sages as is mentioned in Puranic history which are real history and not mythology.

The present 7th विवस्वान मन्वंतर started 120 million years ago and we are living now in 28 महायुग 5110 कलियुग year.

Vedic Aryans were never naked. Man was naked is western concept due to Out of Africa theory or Adamic history popular in West Asia in the dominant religion of Christianity and Islam. Sanatan Vedic Dharma God revealed Vedas to Aryans and God himself descended in various Avatars to protect Dharma from miscreants in various Yugas. So God cannot be created by humans. 

Manu is progenitor of mankind which is संस्कृत word from which english word Man or civilized human or मनुष्य or मानव having evovled mind originated in India known as Caucasoid or Aryan race in India while the Black race people originated in Africa and Mongols originated in East Asia.

India – cradle of civilization 

Article by P.Oleksenko


60 – 70 000 years ago, people went out from Hindustan to settle all over the world!!!! 

See the posting by our russian friend Prof. Alexander Koltypin

“It was concluded that the center point of dispersion, from which came the people who made ancient settlements all around the world, was Hindustan. Streams of people rushed out of Hindustan into the Near East, Europe, Southeast Asia, Oceania and Australia 70-60 thousand years ago.

Prior to this, 80-70 thousand years ago in India and Southeast Asia came the ancestors of the Hindustani people (or, as it can be argued, the present humanity), but where they came from is not clear.

P.Oleksenko is taking seriously the hypothesis that the ancestors of modern people could have come to the peninsula of Hindustan from the mythical continent of Lemuria, which disappeared after the eruption of Toba.”
http://www.earthbeforeflood.com/p_oleksenlo_india_-_cradle_of_humanity_or_transit_point_in_development_of_civilizations_preface_a_koltypin.html

Other materials on Lemuria – in Russian. But they can be viewed with the help of a translator

http://www.dopotopa.com/atlantida_giperborea_lemuria_mu_-_kontinenty_davno_izvestnye_geologam.html

http://www.dopotopa.com/most_ramy_-_artefakt_drevnosti.html

http://www.dopotopa.com/n_rerih_lemuria.html

As a bonus I suggest to see the text in English

http://www.earthbeforeflood.com/most_important_catastrophe_in_history_of_earth_during_which_mankind_appeared_when_it_happened.html

http://www.earthbeforeflood.com/history_of_mankind_began_tens_millions_years_ago_comparison_of_legends_with_geological_data_testifies_it.html

Link of article

An Atomic Bomb went off on Earth more than 12000 years ago?


Ancient civilizations and pagan religions have left many mark in history with scripts, monuments and numerous objects that make us reevaluate what we know so far regarding our past and where we are going as a civilization.

The Mahabharata and the Ramayana offer many answers to numerous questions regarding our past, present and future.
The Mahabharata is one of the two major Sanskrit epics of ancient India, the other being the Ramayana. It consists of 100,000 verses divided into 18 parts or books that are equivalent to eight times the Iliad and Odyssey combined. these ancient texts are more than a historical narration. It is a combination of facts, legends stories and myths. A vast collection of didactic discourses written that were written in a beautiful language, nurturing all Hindu mythology and creating one of the major world religions: Hinduism.
Among those historical texts, we see a story of a devastation that occurred in the past, one that cannot be compared to anything else in the past, a devastation much similar to what we know today is destruction caused by nuclear weapons. Historian Kisari Mohan Ganguli, argues that the Mahabharata and the Ramayana are full of descriptions of large nuclear holocausts that are apparently of incredibly higher proportions than those at Hiroshima and Nagasaki.
When a student asked Dr. Oppenheimer if the first nuclear device that went off was the one at Alamogordo. during the Manhattan Project, he responded… Well … yes. In modern times, yes, of course.
The ancient Hindu text the Mahabharata:
“Gurkha, flying a swift and powerful vimana,

hurled a single projectile

charged with the power of the Universe.
An incandescent column of smoke and flame,

as bright as ten thousand suns,

rose with all its splendor.
It was an unknown weapon,

an iron thunderbolt,

a gigantic messenger of death,

which reduced to ashes

the entire race of the Vrishnis and the Andhakas.
The corpses were so burned

as to be unrecognizable.
Hair and nails fell out;

Pottery broke without apparent cause,

and the birds turned white.
…After a few hours

all foodstuffs were infected…

…to escape from this fire

the soldiers threw themselves in streams

to wash themselves and their equipment.”

 A second passage.
“Dense arrows of flame,

like a great shower,

issued forth upon creation,

encompassing the enemy.

A thick gloom swiftly settled upon the Pandava hosts.

All points of the compass were lost in darkness.

Fierce wind began to blow

Clouds roared upward,

showering dust and gravel.
Birds croaked madly…

the very elements seemed disturbed.

The sun seemed to waver in the heavens

The earth shook,

scorched by the terrible violent heat of this weapon.
Elephants burst into flame

and ran to and fro in a frenzy…

over a vast area,

other animals crumpled to the ground and died.

From all points of the compass

the arrows of flame rained continuously and fiercely.” — The Mahabharata
 
There are many other references in the Ramayana which seem to be very similar to those described in the above texts. It is very clear that these texts allude to a great holocaust that killed thousands of lives. One that can be easily traced to nuclear weapons we use today.
But is there evidence, other than the texts supporting the theory that a nuclear device went off on Earth thousands of years ago? In 1992 researchers discovered in Rajasthan a layer of radioactive ash, covering an area of ​​about eight square kilometers, 16 kilometers west of Jodhpur. The radiation is so intense that it still contaminates the area today. Researchers excavated at Harappa and Mohenjo-Daro, discovering skeletons scattered throughout the area as if a sudden event occurred that devastated entire cities.
 “(It was a weapon) so powerful

that it could destroy the earth in an instant–

A great soaring sound in smoke and flames–

And on it sits death…” . — The Ramayana
The site where researchers have found skeletons and remains of radioactivity is very similar to Hiroshima and Nagasaki, but with one striking difference: the radiation levels found at Harappa and Mohenjo-Daro were 50 times higher than the remains of the nuclear holocaust of Hiroshima and Nagasaki.
What really happened? Are the Mahabharata and the Ramayana really describing a nuclear device exploding on Earth tens of thousands of years ago? If so where id it come from? Ancient astronaut theorists are talking about a nuclear holocaust which happened around 12,000 years ago. An explosion that according to theories, created a crater with 2154 meters in diameter, located 400 kilometers from Mumbai.

The dating ranges from 12,000 to 50,000 years ago so researchers have a gigantic time frame to work with.

From ancient-code.com

कहानी गिलगमेश और उसके अमृतवा की खोज की (एक प्राचीन इराकी महागाथा)

गिलगमेश या बिलगमेश की वीरगाथा एक मेसोपोटामिया या प्राचीन इराक की वीरगाथा है ।
इस महागाथा को पत्थर की ईट पर लिखा गया था और वे 12 थी पर 12वि सही हालत में न होने के कारन कहानी का अंत कोई नहीं जानता।पर हाल ही में 12वि ईट मिली है और आज में आपको पूरी कहानी बताऊंगा।
ये कहानी है सुमेर शहर के राजा गिलगमेश (3000 ईसापूर्व )की साहसी कारनामो पर है।2500 ईसापूर्व में सर्गोन के पुरे मेसोपोटामिया को जीतने के बाद ये वीरगाथा काफी महसूर हुई ।
सिकंदर के फारस आक्रमण से पहले ये महागाथा वहा बहोत लोकप्रिय थी ।

कहानी

गिलगमेश सुमेर का 5वा एवं शक्तिशाली राजा था,वह आधा मानव और आधा देवता था।वह काफी सुन्दर और हस्त पुस्त था ।कई शहरों को जीतने के बाद उसने उरुक को अपनी राजधानी बनायीं
।अपनी सफलता के कारन और उसके जीतना इस पृथ्वी पर कोई शक्तिशाली न पाकर उसे घमंड हो गया और एक क्रूर राजा बन गया।
वह मजदूरो से अधिक काम कराता और किसी भी सुन्दर कन्या चाहे वो उसके किसी सेनापति की क्यों न हो उसकी इज्ज़त लूट लेता। आखिर लोगो के देवताओ से प्राथना के बाद देवताओ ने उनकी पुकार सुन गिलगमेश का संहार करने एंकि-दू भेज जो की गिलगमेश जितना शक्तिशाली था और एक वन्मनव था। वह जंगले में पशुओ के साथ रहता ।
एक दिन एक शिकारी गिलगमेश के पास गया और उसे बताया की एक वन मानुष है जो उनके फंदों से जानवरों को छुड़ा देता है।
गिलगमेश ने एक सुन्दर देवदासी शमश को एंकि-दू को लुभाकर उरुक लाने भेजा क्युकी उस समय यह मन जाता था की शराब और काम वाष्ण आदमी को सब्याता की और ले जा सकती है।
शमश एंकि-दू के साथ रही और उसे सभ्यता की और ले गयी अब एंकि-दू एक वन मानव नहीं एक सभ्य मानव था ।
उरुक पहोच शमश और एंकि-दू ने शादी कर ली ।
कई दिन उरुक ने रहने के बाद एंकि-दू को गिलगमेश के बारे में पता चला और उसके कुकर्मो के बारे में भी।
एंकि-दू गिलगमेश को चुनौती देने गया।
दोनों के बिच घमासान मल्य युद्ध हुआ आखिर में गिलगमेश को उसकी बुरे का एहसास हुआ और दोनों एक दुसरे की शक्ति से प्रवाहित हो मित्र बनगए।

दोनों मित्रो ने कई शहर जीते आखिर में गिलगमेश को देवताओ के देवदार के बाग़ से देवदार चुराने की शुजी ताकि उसकी लकड़ी से उरुक शहर के दरवाजे बनाये जाये।
एंकि-दू ने पहले तो मन किया पर बाद में मान गया।
दोनों मित्र रस्ते की कई बढाओ को पार कर बाग़ तक पहुचे पर एक मुस्किल थी बाग़ की रक्षा हुबाबा करता था जिसे प्राचीन इराक के वायु देव ने बनाया था।
दोनों हुबाबा से लदे आखिर हुबाबा की मृत्यु हो गयी।
दोनों ने मिल देवदार के वृक्ष कटे और कुछ लकड़ियो की सहयता से एक नाव बनाई ताकि वृष उसमे लाद ले जा सके ।
शहर पहोच गिलगमेश ने उसके दरवाजे बनाये इस बिच हुबाबा की मृयु की खबर देवताओ तक पहोची जिसे सुन इश्तार यानि प्यार की देवी गिलगमेश पर मोहित हो गयी और गिलगमेश के पास अपने प्यार का इज़हार करने गयी।
गिलगमेश ने उसे साफ माना कर दिया।
गिलगमेश ने कहा :- हे प्रेम की देवी इश्तार में तुम्हारे पिछले प्रमो के बारे में जानता हु साथ ही ये भी की जैसे ही तुम्हारा उनसे मन उबा वैसे ही उन सब को मृत्यु देखनी पड़ी।
यह सुन इश्तार अपने पिता अनु के पास गयी और उन्हें स्वर्ग का सांड उरुक पर भेजने के लिए कहा ।
अपने पिता के मन करने के बाद इश्तार ने अनु को धमकी दी की यदि उसके कहा अनुसार नहीं हुआ तो वह नर्क का दरवाजा खोल देगी जिससे हजारो जीन्द मृत(Zombies) बहार आयेंगे और तबाही मचा देंगे ।
विवस हो अनु ने उरुक पर सांड भेज दिया। सांड अपने साथ 7 वर्ष का सुखा लाया ।गिलगमेश और एंकि-दू उस सांड से लड़ने गए ,कई दिन लड़ने के बाद आखिर एंकि-दू ने उस सांड के सिंग पकड़ लिए (निचे दी हुई तस्वीर देखे)और गिलगमेश ने उसे मार डाला ।
पर एंकिदू बहोत घायल हो गया बिलकुल अर्ध्मारा सा इसीलिए वह अब शैया पर ही पड़ा रहता।
एक दिन उसे सपना आया की देवताओ ने सभा बुलाई है और वे कह रहे है की हुबाबा और स्वर्ग के सांड को मरने की वजह से गिलगमेश और एंकि दू ने अपरद किया है इसीलिए इन्हें सजा मिलनी चाहिए मृत्युदंड की पर गिलगमेश सुधर गया है उसे मरना सही नहीं रहेगा पर एंकिदू को तो गिलगमेश का संहार करने के लिए भेज था और अब जोकि गिलगमेश सुधर गया तो एंकिदू का कुछ काम नहीं ,उसका जीवन का लक्ष्य समाप्त हो गया है इसीलिए उसे मृत्युदंड दी जाए।
एंकिदू सपना देख खुदको कोसने लगा ।
वह कहता :- “क्यों में इस निर्दयी मानव दुनिया में आया मैं जंगले में उन पशुओ के साथ ज्यादा सुखी था ।
ह वह नारी शमश क्यों में उसके जाल में फसा नहीं उसके जसल में मैं फास्ता और नाही में उरुक आता।
पर वाही थी जिसने मुझे रोटी दी खाने के लिए और दूध दिया उसने मेरा कितना क्या रखा ,भगवन उसे सदा सुखी रखे।
और गिलगमेश मेरा मित्र मेरा भाई ओह उसने क्या क्या नहीं किया मेरे लिए। मेरे मरन उपरांत वह मेरे लिए सबसे सुन्दर शैया लायेगा। स्वर्ग में मेरा कयल रखने के लिए कई दसिय और रखेल भेजेगा (उस वक़्त किसी आमिर या राजा के साथ जिन्दा रखैले और दास दासिया दफनाई जाती क्युकी यह मन जस्ता था मरने के बाद स्वर्ग में उनकी आवश्कता पड़ेगी )भगवन उसे सदैव जीत दिलाये ।”
यह बात एंकिदू ने गिलगमेश को बताई ,गिलगमेश दुखी हो गया पर वह एंकिदू को दिलासा देता रहा की वह जीवित रहेंगा ।
एंकिदू बहोत बीमार पद गया और आखिर मर गया ।गिलगमेश उसके पास ही था ,उसके मरने के बाद वह उसे जगाने की कोशिस करता पर एंकिदू कुछ नहीं कहता,गिलगमेश ने एंकिदू की दिल की धड़कन देखि वह रुक चुकी थी।
कई दिन तक गिलगमेश उसकी लाश के बाजू में रहा आखिर जब एंकिदू की लाश सड़ने लगी और कीड़े उसे खाने लगे तब गिलगमेश ने उसे सम्मान सहित दफना दिया।
गिलगमेश को दक्खा लगे अपने मित्र की मौत पर वह सोचने लगा जिस कदर उसका प्यारा मित्र मरा क्या उसी कदर वह मरेगा ,गिलगमेश जीना चाहता था वह अमर होना चाहता था तब उसे अपने बड़े बुडो की कहानी याद आई जिउसुद्दु की जो की मनु का इराकी स्वरुप था।उसे याद आया स्वयं देवताओ ने उसे अमरता का राज बताया था ,गिलगमेश उसी का वंशज था जिउसुद्दु उसकी सहयता जरुर करेगा।
गिलगमेश दुनिया के आखिरी छोर की खोज में निकला जहा जिउसुद्दु रहता था।
कई महीनो तक चलने के बाद उसकी हालत भी एंकिदू सी हो गयी,वह स्वयं एंकिदू नजात आता। उसके सारे वस्त्र निकल गए थे और सरीर पर बड़े बड़े बाल आ गए थे।
गिलगमेश दो पहाड़ी के यहाँ पहोचा। उन पहाडियों के बीचो बिच एक गुफा थी जो जिउसिद्दु के घर की ओर जाता पर दो विशाल बिछुओ ने उसका रास्ता रोक लिया ।दोनों से युद्ध कर उन दोनों को गिलगमेश ने मर डाला और गुफा में चला गया।
गुफा में काफी अँधेरा था,बहोत दूर चलने के बाद एक छोर उसे रोशनी नजर आई। उसरी तरफ पहोच उसे एक सुन्दर बाग़ नजर आया ,बाग़ के पास एक सागर था जिसका नाम मृत्यु सागर था और उसके बिच में एक द्वीप पर था जिउसुद्दु का घर।
वह सागर के किनारे पहोच तो एक जल देवी  आई और उसे रोकते हुए बोली की चले जाओ वापस। गिलगमेश ने उसे वह आने का कारन बताया जिसे सुन उस देवी ने उसे समझाया पर वह नहीं माना और आगे चल दिया।
उसे सागर के किनारे एक नाव मिली इसमें जिउसुद्दु माझी था,उस माझी ने भी गिलगमेश को लाख समझाया पर वो मन नहीं आखिर माझी उसे जिउसिद्दु के पास ले गया।
जिउसुद्दु ने गिलगमेश को देखा तो कुश हुआ पर उसकी इच्छा सुन चिंतित हो गया।
गिलगमेश की जिद के बाद जिउसुद्दु मान गया पर एक शर्त राखी ,गिलगमेश को पूरा एक सप्ता बिना सोये बिताना था पर आखिर कुछ दिन न सोने की की कोशिश करने के बाद वह सो गया।
दुखी हो गिलगमेश जाने लगा पर जिउसुद्दु की बीवी ने जिउसिद्दु को गिलगमेश की थोड़ी मदत करने के लिए कहा ।
जिउसुद्दु ने गिलगमेश को रोका और उसे पास ही के अमृत सागर में जसने को कहा जिसकी ताल हटी में एक औषदी थी जो उसको दुबारा जवान बना देगी (बबुली और दुसरे इराकी की शहरों की कहानी अनुसार यह औषदी अमृत्व प्रदान करती है .यह पूरी तरह से सुमेरी कहानी है जो सबसे पहली और असली है )
गिलगमेश अमृत सागर गया और औषद प्राप्त कर उरुक की और गया।
उरुक जाते समय एक तलब आया रस्ते पर तो गिलगमेश उसमे नहाने के लिए गया।
पास ही एक सर्प था जो औषदी की गंद से मोहित हो गया और उसे खा गया। अब सर्प जवान और पहले से अधिक शक्तिशाली बन गया ।उसकी पुराणी केचुली उतर गयी और एक हस्त पुस्त सर्प निकला जो चला गया।
नहाके आने के बाद गिलगमेश ने पाया की औषदी वहा नहीं है साथ ही वहा सर्प की केचुली थी ।वह समझ गया क्या हुआ ।
उसे बहोत दुःख हुआ की उसकी मेहनत एक रेंगने वाले जीव ने नस्त कर दी ।
गिलगमेश उरुक पंहुचा उदास मन से और वह शाशन करने लगा,उसे एहसास हुआ की जग जितना आसन है पर दिल जीतना कठिन इसीलिए अब वह लोगो की भलाई का काम करता ।
कई साल बिड गए और गिलगमेश वृद्ध हो गया उसे अब यह चिंता सताने लगी की उसकी मृत्यु के बाद उसके शारीर और आत्मा का क्या होगा ।
गिलगमेश ने देवता नर्गल को याद किया। नर्गल ने उसे सरीर सहित नर्क में पंहुचा दिया। वहा वह भाधाए पर कर और नर्क के रक्षक को हराकर आगे बड़ा और उसे आखिर एंकिदू की आत्मा मिली।
नर्गल ने भूमि में दरार करदी जिस कारन दोनों मित्र नर्क से बहार आ गए।
गिलगमेश ने एंकिदू से अपना सवाल किया ,जवाब में एंकिदू ने कहा की गिलगमेश इसे सुन नहीं पायेंग पर गिलगमेश की जिद के कारन उसने बताया की इस सरीर को कीड़े खा जाते है और आत्मा पृथ्वी पर भटक मल और सदा हुआ पानी पीती है यदि उसकी कब्र पर रोज आहार न रखा जाये।
कुछ साल पहले तक यही कहानी का अंत मन जाता था की गिलगमेश को मरने के बाद होने वाले कास्ट का पता चलता है पर अभी अभी एक और ईट मिली है जिसके अनुशार गिलगमेश की भी मौत होती है और उसकी आत्मा नर्क में जाती है पर अछे कर्मो के कारन उसे नर्क का न्यायधीश(जज) बना दिया जाता है ।
जय माँ भारती