Lakulisha : An Important Chapter of Bhartiya History

#Lakulisha : An Important Chapter of Bhartiya History
Vyaas Rshi is one of the center point of bhartiya civilization and especially for the history. There are conflicting claims floating on internet regarding the birth of the great Rshi Vyas. Kurma Puran, Ling Puran and few others gives 28 birth of Vyaas in seventh Manavantar and similarly 28 birth of Rudra as Rshi. As per Ling Puran, every chaturyuga has 4 Shisyas of both Vyaas and Rudra born in start and end of #Dwapar respectively. Vyaas and his four shisyas work was to propagate and teach four vedas and Rudra avataar and his shishyas work was to keep balance of earth/shrishti by teaching of Pashupat dharm. The influence of Pashupat Dharm can be seen in world’s oldest #Sindhu Civilization’s seal which was #Pashupati. The influence could also be seen in Rongorongo by comparing similarities between the Indus and Rapa Nui writing systems and their seals plus with Inga Stone of Brazil. 
The description of both avatar goes as follows:

1st Dwapar Vyaas was Manu or Shiv and Rudra avatar was Swet Muni

2nd Vyaas name was Satya and Rudra avatar was Sutaar

3rd Vyaas name was Usna/Bhargava/Sukrachry and Rudra avatar was Daman

4th Vyas name was Angira or Brishpti and Rudra avatar was Suhotra

5th Vyaas name was Savita and Rudra avatar was Kanak

6th Vyaas name was Mrtyu (yam) and Rudra avatar was Laugakshi

7th Vyaas name was Indra named Satritu and Rudra avatar was Vibhu Rshi

8th Vyaas name was Vashistha and Rudra avatar was Dadhivahan
Similarly others are mentioned in the pic. The 28th was #Dwaipayan and 28th avatar of Rudra was #Lakuli famous as Yogaatma #Lakulish. Lakulish is famous as promoter of #Pashupat Dharma after 28th Dwapar. Yogi Lakulish is mentioned in Linga puran as 28th avatar of Shiv/Rudra in end of 28th Dwapar and promoter of yog system. The Linga puran mentions four sons of Yogi Lakuli viz Garga, Kaurushya, Mitra and Kushika. Origin and history of Lakulish (Shiva with a wooden stick) traverse back to Gujarat region of current India. 
#Jageshwar was once the center of Lakulish Shaivism. There is no definite dating of the construction of Jageshwar group of temples. The temples were renovated during the reign of Katyuri King Shalivahandev. There is an inscription of Malla Kings in the main temple indicating their devotion to Jageshwar. The Katyuri Kings also donated villages to the temple priests for its maintenance. The Chand Kings of Kumaon were also patrons of the Jageshwar temple. Numerous Jageshwar temples were constructed or restored during the Gurjara Pratihara era. See the Pic. Lakulisha among his four disciples Kusika, Garga, Mitra, and Kaurushya, rock-cut stone relief, Cave Temple No. 2 at Badami, Karnataka. The principal text of the Pashupata sect, the Pāśupata Sūtra is attributed to Lakulisha. The manuscripts of this text and a commentary of it, the Pañcārtha Bhāṣya by Kaundinya were discovered in 1930. The account matches those narrated in the various historical references in Puranas where Lakulisha incarnates as 28th Avatar. 
The four disciples of Dwaipayan made famous the teachings of Vedas. Paail (Rgved), Vaispaayan (Yajur), Sumantu (Athrva), Jaimini (Sam) and Suta Muni the historical parts likes puranas. #Kusika, #Garga, #Mitra, and #Kaurushya are described as sons of Yogi Lakuli in Ling Puran all will spend their life teaching yogic activities, living in sync with nature, protecting animals and worshipping shivling. The teachings of Pashupati did made huge impact of Bhartiya civilization where an example could be seen as #PashupatiSeal of Sindhu Saraswati Civilization. The world oldest civilization could be pretty much seen as result of hard work based on yama-niyama done by Yogi Lakulisha and his sons. Yogi Lakulisha is believed to be born in land of #Gujarat. The site of #Kayavarohana is related to Lakulisha.

 

#Rajarani Temple, #Lingraj Temple and many ancient temples of #Bhubneshwar is dedicated to Yogi Lakulisha. When H. Tsiang visited #Varanasi he wrote Pashupatas as major followers which is true till date. He also wrote more than 100 temples were dedicated to Shiva. Varanasi is called as world’s only ancient city inhabited continuously. Lakulisha as Siva is often enshrined, his image on the face of a Sivalinga, seated in lotus posture, virilely naked, holding a danda in his left hand and a citron fruit in his right. One of the most ancient temple “Somnath” which has faced many cycles of destruction from Islamic invaders is one of the most revered temple. Pashupatinath Temple of Nepal is also one of the ancient temple dedicated to Pashupati Dharm.

   

About Yogi Lakulisha 

Yogi Lakulish was said to be born to a brahmin couple named Vishvarup and Sudarshana in Kayavarohan, Gujarat during end of Dwapar. This means that he must have lived not before 4000 BC. There ancestral line went back to the great ancient sage, Atri. Lakulish was born on the fourteenth day of the bright half of the moon in the Indian month of Chaitra after midnight. A sage named Atri took same task at the end of 12th Dwapar when Vyaas was Rshi Shattej. Tracing Yogi Lakulish and his son cum shishyas can solve many mysteries of our Bhartiya Civilizations. 

It is said in all the Agamas and Tantras, that a MukhaLinga should he made on the Pujabhaga of the Sarvasama-Linga and that it might have one, two, three, four or five faces corresponding to the five aspects viz, Vaaiadeva, Tatpurusha, Aghora, Sadyojata and Ishana, of Shiva. In 1940, archaeologist M.S. Vats discovered three Shiva Lingas at Harappa, dating more than 5,000 years old. It is known to us that Shiva was seated facing south when he taught the rishis and devotees Yoga and Jnana, includes science and arts because of this, such forms of Shiva are known as #DAKSHINAMURTI. An image representing this form of Shiva is found in the left window of the Lakulish temple, adjoining to the Main Shrine in Eklingji. The Shiva Purana, has laid down that the image of Lakulisha should carry Bijora In his right hand Staff in the left one. The Vishvakarma Vastusastra also confirms this description. The images found in old Kayavarohan Tirth, Gujarat, satisfys this description. The same type of image is found in the Papkantakeshvar temple, Achalgarh, Rajasthan, Kalika temple (Chittor Fort) wherein the deity holds a Bijora in his right hand and a staff in the left one. Lakulisha in Samgameshwara temple built under patronage of early Chalukyas. In Haryana’s Morni and Tikkar Tal Lakulisha images were excavated and can be found in Government Musem and Art Gallery, Chandigarh. The remains and fort of Morni Lake suggests a big civilization once propagated there. There is mention of Pasupatacharya named #Udita who was student of #Upamita who was student of #Kapila who belonged to Chandragupta period. The earliest images of Lakulisa from Mathura datable to 5th -6th CE show him seated with two arms can be seen in State Museum, Lucknow. 
Lakulisha and Kusika.

Lakulisha among his four disciples Kusika, Garga, Mitra, and Kaurushya; #Kushika is believed to be first disciple finds mention in Pasupata Sutra (PS) and Pancarthabhasya (Pbh). Both these texts talk about his getting directly initiated by Lakulisa in Ujjain. The Udaipur Inscription of Naravahana refers to Kusika and records that ascetics who besmear their bodies with ashes and wear barks and have matted hair, appeared in his line. The dynastic patronage to early Lakulisa-Pasupatas can be seen clearly at cave temples of #Jogesvari, #Elephanta, #Manddapesvar and later at #Ellora. In medieval South India, there was an influential sect called the #Kalamukhas some believe that Kalamukha sect was derived from, or was another name for, the Lakulisha-Pashupatas. According to some sources, Basavadeva, the reformer of Vira Shaivism, was initiated by a Kalamukha ascetic. Lakulisha and his Shishyas are very important historical figure which needs a good research for better understanding of Sapta Sidhu Civilizations and history of Pashupat history in this kaliyuga. 

==============================================

Notes and References

[1] Rudra Puran, Shiv Puran

[2]http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/74856/11/11_chapter%204.pdf

[3] http://www.hillsofmorni.com/history-of-morni/glimpses-of-history-excavations-at-morni-ka-tal/ 

[4]http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/58063/7/07_chapter%202.pdf

[5] Huntington Susan, ‘Art of AncientIndia ‘p. 75

[6] Spink Walter, ‘Ajanta to Ellora ‘1967

[7] http://www.boloji.com/index.cfm?md=Content&sd=Articles&ArticleID=13273

[8] http://www.ancient-wisdom.com/easterislandindusvalley1.htm

Advertisements

#Instanbul #Shem #RocketShip: Is this a replica (see photo) of an #ancient single-seat rocket-ship? That’s what it looks like to Zecharia Sitchin, the leading authority and scholar on the Ancient Astronaut theory. Hidden away in the Istanbul Archaeology Museum in Turkey for a quarter of a century, Sitchin recently convinced the Museum that this artifact may indeed be ancient, and not the modern forgery they concluded it must be, simply because our current view of our ancient history doesn’t include rocket-ships. In his article in Atlantis Rising Magazine, Issue 15, Sitchin describes this object as,”a sculpted scale model of what, to modern eyes, looks like a cone-nosed rocket-ship… Powered by a cluster of four exhaust engines in the back surrounding a larger exhaust engine, the rocket-ship has room for a sole pilot—actually shown and included in the sculpture.” He describes the pilot as sitting with legs folded toward his chest, and wearing a one-piece “ribbed pressure suit” which becomes boots at the feet, and gloves at the hands, and points out that since the pilot’s head is missing, we cannot know whether the pilot wore a helmet, goggles, or other headgear. The artifact measures 23 centimeters long, 9.5 cm high, 8 cm wide, or 5.7 inches long, 3.8 inches high, and 3.5 inches wide.Sitchin spent years tracking down the artifact, until he located it at the #Archaeology #Museum in #Istanbul. It was excavated at #Toprakkale, a city known in ancient times as Tuspa, where the kingdom of Urartu reigned briefly over 2500 years ago. The museum curators decided this small artifact must be a forgery because it differs from the era’s style, and more importantly, it looks like a space capsule. They reasoned that since there were no space capsules in ancient times, it must be a modern fake, a practical joke, made of plaster of Paris and marble powder.from “De Goden en de Broederschappen” However, during Sitchin’s visit to Istanbul and the Museum in September 1997, he met with the Director, Dr. Pasinli, who took the artifact from a drawer, and allowed Sitchin to examine and photograph it. It looked to Sitchin to be carved from a porous, volcanic ash stone, the details very precise. Dr. Pasinli asked Sitchin what he thought. It is not out of context, Sitchin told the Director and his colleagues, when you view various artifacts that also seem to represent an ancient, space faring civilization. In Sitchin’s “The Lost Realms,” you’ll find illustrations of artifacts that may represent bearded spacemen and rocket-ships from Mexico, and from Lebanon, what might be a rocket-ship on a landing platform. He advised the Museum directors to allow viewers to decide for themselves what it is, while stating their own doubt about the artifact’s authenticity.This was enough to convince the curators to finally put the object on public display. Be sure to have a look for yourself next time you are in Istanbul.These beings who rode in these spaceships where either the good gods who were with #Yahweh the creator, or the #serpent men that #rebelled against Yahweh.

Truth of Shahjaha and Taj Mahal in Hindi

”शाहजहाँ के हरम में ८००० रखैलें थीं जो उसे उसके पिता जहाँगीर से विरासत में मिली थी। उसने बाप की सम्पत्ति को और बढ़ाया। उसने हरम की महिलाओं की व्यापक छाँट की तथा बुढ़ियाओं को भगा कर और अन्य हिन्दू परिवारों से बलात लाकर हरम को बढ़ाता ही रहा।”

(अकबर दी ग्रेट मुगल : वी स्मिथ, पृष्ठ ३५९)

कहते हैं कि उन्हीं भगायी गयी महिलाओं से दिल्ली का रेडलाइट एरिया जी.बी. रोड गुलजार हुआ था और वहाँ इस धंधे की शुरूआत हुई थी।
जबरन अगवा की हुई हिन्दू महिलाओं की यौन-गुलामी और यौन व्यापार को शाहजहाँ प्रश्रय देता था, और अक्सर अपने मंत्रियों और सम्बन्धियों को पुरस्कार स्वरूप अनेकों हिन्दू महिलाओं को उपहार में दिया करता था।

यह नर पशु, यौनाचार के प्रति इतना आकर्षित और उत्साही था, कि हिन्दू महिलाओं का मीना बाजार लगाया करता था, यहाँ तक कि अपने महल में भी।

सुप्रसिद्ध यूरोपीय यात्री फ्रांकोइस बर्नियर ने इस विषय में टिप्पणी की थी कि, ”महल में बार-बार लगने वाले मीना बाजार, जहाँ अगवा कर लाई हुई सैकड़ों हिन्दू महिलाओं का, क्रय-विक्रय हुआ करता था, राज्य द्वारा बड़ी संख्या में नाचने वाली लड़कियों की व्यवस्था, और नपुसंक बनाये गये सैकड़ों लड़कों की हरमों में उपस्थिती, शाहजहाँ की अनंत वासना के समाधान के लिए ही थी।

(टे्रविल्स इन दी मुगल ऐम्पायर- फ्रान्कोइस बर्नियर :पुनः लिखित वी. स्मिथ, औक्सफोर्ड १९३४)
शाहजहाँ को प्रेम की मिसाल के रूप पेश किया जाता रहा है और किया भी क्यों न जाए ,८००० औरतों को अपने हरम में रखने वाला अगर किसी एक में ज्यादा रुचि दिखाए तो वो उसका प्यार ही कहा जाएगा।
आप यह जानकर हैरान हो जायेंगे कि मुमताज का नाम मुमताज महल था ही नहीं बल्कि उसका असली नाम “अर्जुमंद-बानो-बेगम” था।

और तो और जिस शाहजहाँ और मुमताज के प्यार की इतनी डींगे हांकी जाती है वो शाहजहाँ की ना तो पहली पत्नी थी ना ही आखिरी ।

मुमताज शाहजहाँ की सात बीबियों में चौथी थी । इसका मतलब है कि शाहजहाँ ने मुमताज से पहले 3 शादियाँ कर रखी थी और, मुमताज से शादी करने के बाद भी उसका मन नहीं भरा तथा उसके बाद भी उस ने 3 शादियाँ और की यहाँ तक कि मुमताज के मरने के एक हफ्ते के अन्दर ही उसकी बहन फरजाना से शादी कर ली थी। जिसे उसने रखैल बना कर रखा हुआ था जिससे शादी करने से पहले ही शाहजहाँ को एक बेटा भी था।

अगर शाहजहाँ को मुमताज से इतना ही प्यार था तो मुमताज से शादी के बाद भी शाहजहाँ ने 3 और शादियाँ क्यों की….?????

अब आप यह भी जान लो कि शाहजहाँ की सातों बीबियों में सबसे सुन्दर मुमताज नहीं बल्कि इशरत बानो थी जो कि उसकी पहली पत्नी थी। उस से भी घिनौना तथ्य यह है कि शाहजहाँ से शादी करते समय मुमताज कोई कुंवारी लड़की नहीं थी बल्कि वो शादीशुदा थी और, उसका पति शाहजहाँ की सेना में सूबेदार था जिसका नाम “शेर अफगान खान” था। शाहजहाँ ने शेर अफगान खान की हत्या कर मुमताज से शादी की थी।
गौर करने लायक बात यह भी है कि ३८ वर्षीय मुमताज की मौत कोई बीमारी या एक्सीडेंट से नहीं बल्कि चौदहवें बच्चे को जन्म देने के दौरान अत्यधिक कमजोरी के कारण हुई थी। यानी शाहजहाँ ने उसे बच्चे पैदा करने की मशीन ही नहीं बल्कि फैक्ट्री बनाकर मार डाला।
शाहजहाँ कामुकता के लिए इतना कुख्यात था, की कई

इतिहासकारों ने उसे उसकी अपनी सगी बेटी जहाँआरा के साथ स्वयं सम्भोग करने का दोषी कहा है।

शाहजहाँ और मुमताज महल की बड़ी बेटी जहाँआरा बिल्कुल अपनी माँ की तरह लगती थी। इसीलिए मुमताज की मृत्यु के बाद उसकी याद में लम्पट शाहजहाँ ने अपनी ही बेटी जहाँआरा को फंसाकर भोगना शुरू कर दिया था।

जहाँआरा को शाहजहाँ इतना प्यार करता था कि उसने उसका निकाह तक होने न दिया।

बाप-बेटी के इस प्यार को देखकर जब महल में चर्चा शुरू हुई, तो मुल्ला-मौलवियों की एक बैठक बुलाई गयी और उन्होंने इस पाप को जायज ठहराने के लिए एक हदीस का उद्धरण दिया और कहा कि – “माली को अपने द्वारा लगाये पेड़ का फल खाने का हक़ है”।

(Francois Bernier wrote, ” Shah Jahan used to have regular sex with his eldest daughter Jahan Ara.

To defend himself, Shah Jahan used to say that, it was the privilege of a planter to taste the fruit of the tree he had planted.”)
इतना ही नहीं जहाँआरा के किसी भी आशिक को वह उसके पास फटकने नहीं देता था।

कहा जाता है की एकबार जहाँआरा जब अपने एक आशिक के साथ इश्क लड़ा रही थी तो शाहजहाँ आ गया जिससे डरकर वह हरम के तंदूर में छिप गया, शाहजहाँ ने

तंदूर में आग लगवा दी और उसे जिन्दा जला दिया।

दरअसल अकबर ने यह नियम बना दिया था, की मुगलिया खानदान की बेटियों की शादी नहीं होगी। इतिहासकार इसके लिए कई कारण बताते हैं। इसका परिणाम यह होता था, की मुग़ल खानदान की लड़कियां अपने जिस्मानी भूख मिटाने के लिए अवैध तरीके से दरबारी, नौकर के साथ साथ, रिश्तेदार यहाँ तक की सगे सम्बन्धियों का भी सहारा लेती थी।, जहाँआरा अपने बाप शाहजहाँ के लिए लड़कियाँ भी फंसाकर लाती थी। जहाँआरा की मदद से शाहजहाँ ने मुमताज के भाई शाइस्ता खान की बीबी से कई बार बलात्कार किया था।
शाहजहाँ के राजज्योतिष की 13 वर्षीय ब्राह्मण लडकी को जहाँआरा ने अपने महल में बुलाकर धोखे से नशा करा बाप के हवाले कर दिया था जिससे शाहजहाँ ने 58 वें वर्ष में उस 13 बर्ष की ब्राह्मण कन्या से निकाह किया था। बाद में इसी ब्राहम्ण कन्या ने शाहजहाँ के कैद होने के बाद औरंगजेब से बचने और एक बार फिर से हवस की सामग्री बनने से खुद को बचाने के लिए अपने ही हाथों अपने चेहरे पर तेजाब डाल लिया था।
शाहजहाँ शेखी मारा करता था कि ‘ ‘वह तिमूर (तैमूरलंग)

का वंशज है जो भारत में तलवार और अग्नि लाया था।

उस उजबेकिस्तान के जंगली जानवर तिमूर से और उसकी हिन्दुओं के रक्तपात की उपलब्धि से इतना प्रभावित था कि ”उसने अपना नाम तिमूर द्वितीय रख लिया”

(दी लीगेसी ऑफ मुस्लिम रूल इन इण्डिया- डॉ. के.

एस. लाल, १९९२ पृष्ठ- १३२).
बहुत प्रारम्भिक अवस्था से ही शाहजहाँ ने काफिरों (हिन्दुओं) के प्रति युद्ध के लिए साहस व रुचि दिखाई थी।

अलग-अलग इतिहासकारों ने लिखा था कि, ”शहजादे के

रूप में ही शाहजहाँ ने फतेहपुर सीकरी पर अधिकार कर

लिया था और आगरा शहर में हिन्दुओं का भीषण नरसंहार किया था ।

भारत यात्रा पर आये देला वैले, इटली के एक धनी व्यक्ति के अुनसार –

शाहजहाँ की सेना ने भयानक बर्बरता का परिचय कराया था। हिन्दू नागरिकों को घोर यातनाओं द्वारा अपने संचित धन को दे देने के लिए विवश किया गया, और अनेकों उच्च कुल की कुलीन हिन्दू महिलाओं का शील भंग किया गया।”

(कीन्स हैण्ड बुक फौर विजिटर्स टू आगरा एण्ड इट्स

नेबरहुड, पृष्ठ २५)
हमारे वामपंथी इतिहासकारों ने शाहजहाँ को एक महान निर्माता के रूप में चित्रित किया है। किन्तु इस मुजाहिद ने अनेकों कला के प्रतीक सुन्दर हिन्दू मन्दिरों और अनेकों हिन्दू भवन निर्माण कला के केन्द्रों का बड़ी लगन और जोश से विध्वंस किया था।

अब्दुल हमीद ने अपने इतिहास अभिलेख, ‘बादशाहनामा’ में लिखा था-

‘महामहिम शहंशाह महोदय की सूचना में लाया गया कि हिन्दुओं के एक प्रमुख केन्द्र, बनारस में उनके अब्बा हुजूर के शासनकाल में अनेकों मन्दिरों के पुनः निर्माण का काम प्रारम्भ हुआ था और काफिर हिन्दू अब उन्हें पूर्ण कर देने के निकट आ पहुँचे हैं।

इस्लाम पंथ के रक्षक, शहंशाह ने आदेश दिया कि बनारस में और उनके सारे राज्य में अन्यत्र सभी स्थानों पर जिन मन्दिरों का निर्माण कार्य आरम्भ है,उन सभी का विध्वंस कर दिया जाए।

इलाहाबाद प्रदेश से सूचना प्राप्त हो गई कि जिला बनारस के छिहत्तर मन्दिरों का ध्वंस कर दिया गया था।”

(बादशाहनामा : अब्दुल हमीद लाहौरी, अनुवाद एलियट और डाउसन, खण्ड VII, पृष्ठ ३६)
हिन्दू मंदिरों को अपवित्र करने और उन्हें ध्वस्त करने

की प्रथा ने शाहजहाँ के काल में एक व्यवस्थित विकराल रूप धारण कर लिया था।

(मध्यकालीन भारत – हरीश्चंद्र वर्मा – पेज-१४१)
”कश्मीर से लौटते समय १६३२ में शाहजहाँ को बताया गया कि अनेकों मुस्लिम बनायी गयी महिलायें फिर से हिन्दू हो गईं हैं और उन्होंने हिन्दू परिवारों में शादी कर ली है।

शहंशाह के आदेश पर इन सभी हिन्दुओं को बन्दी बना लिया गया। प्रथम उन सभी पर इतना आर्थिक दण्ड थोपा गया कि उनमें से कोई भुगतान नहीं कर सका।

तब इस्लाम स्वीकार कर लेने और मृत्यु में से एक को चुन लेने का विकल्प दिया गया। जिन्होनें धर्मान्तरण स्वीकार नहीं किया, उन सभी पुरूषों का सर काट दिया गया। लगभग चार हजार पाँच सौं महिलाओं को बलात् मुसलमान बना लिया गया और उन्हें सिपहसालारों, अफसरों और शहंशाह के नजदीकी लोगों और रिश्तेदारों के हरम में भेज दिया गया।”

(हिस्ट्री एण्ड कल्चर ऑफ दी इण्डियन पीपुल : आर.

सी. मजूमदार, भारतीय विद्या भवन, पृष्ठ ३१२)
१६५७ में शाहजहाँ बीमार पड़ा और उसी के बेटे औरंगजेब ने उसे उसकी रखैल जहाँआरा के साथ आगरा के किले में बंद कर दिया । परन्तु औरंगजेब मे एक आदर्श बेटे का भी फर्ज निभाया और अपने बाप की कामुकता को समझते हुए उसे अपने साथ ४० रखैलें (शाही वेश्याएँ) रखने की इजाजत दे दी। और दिल्ली आकर उसने बाप के हजारों रखैलों में से कुछ गिनी चुनी औरतों को अपने हरम में डालकर बाकी सभी को उसने किले से बाहर निकाल दिया।

उन हजारों महिलाओं को भी दिल्ली के उसी हिस्से में पनाह मिली जिसे आज दिल्ली का रेड लाईट एरिया जीबी रोड कहा जाता है। जो उसके अब्बा शाहजहाँ की मेहरबानी से ही बसा और गुलजार हुआ था ।
शाहजहाँ की मृत्यु आगरे के किले में ही २२ जनवरी १६६६ ईस्वी में ७४ साल की उम्र में द हिस्ट्री चैनल के अनुसार अत्यधिक कमोत्तेजक दवाएँ खा लेने का कारण हुई थी। यानी जिन्दगी के आखिरी वक्त तक वो अय्याशी ही करता रहा था।

अब आप खुद ही सोचें कि क्यों ऐसे बदचलन और दुश्चरित्र इंसान को प्यार की निशानी समझा कर महान

बताया जाता है…… ?????

क्या ऐसा बदचलन इंसान कभी किसी से प्यार

कर सकता है….?????

क्या ऐसे वहशी और क्रूर व्यक्ति की अय्याशी की कसमें

खाकर लोग अपने प्यार को बे-इज्जत नही करते हैं ??

दरअसल ताजमहल और प्यार की कहानी इसीलिए गढ़ी गयी है कि लोगों को गुमराह किया जा सके और लोगों खास कर हिन्दुओं से छुपायी जा सके कि ताजमहल कोई प्यार की निशानी नहीं बल्कि महाराज जय सिंह द्वारा बनवाया गया भगवान् शिव का मंदिर “”तेजो महालय”” है जिसे तोड़कर उसके उपर ताजमहल का निर्माण किया गया।

और जिसे प्रमाणित करने के लिए डा० सुब्रहमण्यम स्वामी आज भी सुप्रीम कोर्ट में सत्य की लड़ाई लड़ रहे हैं।

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर वामपंथी इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया। और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

Ashoka and Akbar were not great!! 

कभी आपने सोचा है कि इस धरती की सबसे प्राचीन हिन्दू सभ्यता, जिसने असंख्य बर्बर आक्रमणों के बाद भी दस हजार वर्षों से अपना अस्तित्व बरकरार रखा है, वह पिछले डेढ़ सौ वर्षों से क्यों लगातार सिमटती जा रही है?**असल में पिछले डेढ़ सौ बर्षों से, पहले तो अंग्रेजी सत्ता और बाद में उसके भारतीय संस्करण ने हमारे दिमाग को झूठी धर्म निरपेक्षता के नाम पर कुछ इस तरह कुंद कर दिया है, कि हमको अपना धर्म दीखता ही नही है।*

*पूरी दुनिया में सिर्फ भारत के हिन्दू ही ऐसे हैं जिनके लिए धर्म सबसे अंतिम मुद्दा है।*

*हमारी सोच को किस तरह से कैद किया गया है इसकी बानगी देखनी हो तो आप कभी अपने बच्चे से पूछ कर देखिये, कि भारत का सबसे महान सम्राट कौन था। वह तपाक से जवाब देगा- सम्राट अकबर, या सम्राट अशोक।*

*बच्चे को छोड़िये, क्या हमने कभी सोचा है कि सिर्फ अपनी जिद के लिए कलिंग के छः साल से अधिक उम्र के सभी पुरुषों की हत्या करवा देने वाला अशोक सिर्फ हिन्दू धर्म को ठुकरा कर बौद्ध अपना लेने भर से महान कैसे हो गया?*

*इतिहास के पन्ने खोल कर देखिये, कलिंग युद्ध के बाद वहां अगले पंद्रह साल तक महिलाएं हल चलाती रहीं क्योकि कोई पुरुष बचा ही नहीं था। लेकिन सिर्फ बौद्ध धर्म अपना लेने भर से अशोक हमारे लिए महान हो गया।*

हमारी महानता विक्रमादित्य से है जिसने भारत की धरती पर पहली बार बड़ा साम्राज्य स्थापित किया

*अपने एक आक्रमण में लाखों हिंदुओं को काट कर रख देने वाले बर्बर हूणों को अपने बाहुबल से रोकने वाला स्कन्दगुप्त हमारे लिए महान था।

*अपनी वीरता से बर्बर अरबों को भारत में घुसने की आदत छुड़ा देने वाले नागभट्ट का हम नाम नहीं जानते।*

*हमें कभी बताया ही नहीं गया कि इस देश में पुष्यमित्र सुंग नाम का भी एक शासक हुआ था जिसने भारत में भारत को स्थापित किया था, वह नही होता तो सनातन धर्म आज से दो हजार साल पहले ही ख़त्म हो गया होता।*

*हम अकबर को सिर्फ इस लिए महान कह देते हैं कि देश की बहुसंख्यक हिन्दू आबादी पर अत्याचार करने के मामले में वह अपने पूर्वजों से थोड़ा कम बर्बर था। उसे महान कहते समय हम भूल जाते हैं कि स्वयं साढ़े पांच सौ शादियां करने वाले अकबर ने भी अपने पूर्वजों की परम्परा निभाते हुए अपनी बेटियों और पोतियों की शादी नहीं होने दी थी। वह इतना महान और उदार था कि उस युग के सर्वश्रेष्ठ गायक को भी उसके दरबार में स्थापित होने के लिए अपना धर्म बदल कर मुसलमान बनना पड़ा था।*

*सेकुलरिज्म के नाम पर अकबर को महान बताने वाले हम, उसी अकबर के परपोते दारा शिकोह का नाम तक नहीं जानते जिसने वेदों और उपनिषदों का ज्ञान प्राप्त किया, उनका उर्दू फ़ारसी में अनुवाद कराया, और अपने समय में हिंदुओं पर होने वाले अत्याचारों पर रोक लगाई।*

*हमारी बुद्धि इस तरह कुंद हो गयी है कि हम अपने नायकों का नाम लेने से भी डरते हैं, कि कहीं कोई हमेंसाम्प्रदायिक न कह दे।*

*आप भारत में ईसाईयों द्वारा चलाये जा रहे स्कूलों के नाम देखिये, निन्यानवे फीसदी स्कूलों के नाम उन जोसफ, पॉल, जोन्स, टेरेसा के नाम पर रखे गए हैं, जिन्होंने जीवन भर गरीबों को फुसला फुसला कर ईसाई बनाने का धंधा चलाया था। पर आपको पूरे देश में एक भी स्कूल उस स्वामी श्रद्धानंद के नाम पर नहीं मिलेगा जिन्होंने धर्मपरिवर्तन के विरुद्ध अभियान छेड़ कर हिंदुओं की घर वापसी करानी शुरू की थी।* *हममें से अधिकांश तो उनका नाम भी नहीं जानते होंगे।*

*ईसाई उत्कोच के बदले अपना ईमान बेच देने वाले स्वघोषित बुद्धिजीवियों और वोट के दलाल राजनीतिज्ञों के साझे षडयंत्र में फँसे हम लोग समझ भी नहीं पाते हैं कि हमारे ऊपर प्रहार किधर से हो रहा है। हम धर्मनिरपेक्षता का राग अलापते रह गए और हमसे बारी बारी मुल्तान, बलूचिस्तान, सिंध, पंजाब, बंग्लादेश, कश्मीर, आसाम, केरल, नागालैंड, और अब बंगाल भी छीन लिया गया। हम न कुछ समझ पाये, न कुछ कर पाये, बस देखते रह गए।*

*आप तनिक आँख उठा कर देखिये, वर्मा के आतंकवादी रोहिंग्यावों पर हमले होते हैं तो दूर भारत के मुसलमानों को इतना दर्द होता है कि वे भारत की आर्थिक राजधानी मुम्बई में आग बरसा देते हैं। दुनिया के किसी कोने में किसी ईसाई पर हमला होता है तो अमेरिका, ब्रिटेन, फ़्रांस और तमाम ईसाई देश गरज उठते हैं। सबसे कम संख्या वाले यहूदियों में भी इतनी आग है कि कोई उनकी तरफ आँख उठाता है तो वे आँखे निकाल लेते हैं। पर हमारे अपने देश में, अपने लोगों को जलाया जाता है, भगाया जाता है, उजाड़ दिया जाता है पर हम साम्प्रदायिक कहलाने के डर से चूँ तक नहीं करते।*

*बंगाल के दंगे को अगर हम प्रशासनिक चूक भर मानते हैं तो हमसे बड़ा मुर्ख कोई नहीं। बंगाल का आतंक हमारे लिए इस प्रश्न का उत्तर खोजने का सूत्र है कि उत्तर में कश्मीर से, पूर्व में बंगाल-आसाम से और दक्षिण में केरल से चली इस्लामिक तलवार हमारी गर्दन पर कितने दिनों में पहुँचेगी ।*

*श्रीमान, जो सभ्यता अपने नायकों को भूल जाय उसके पतन में देर नहीं लगती। भारत की षड्यंत्रकारी शिक्षा व्यवस्था के जाल से यदि हम जल्दी नहीं निकले, और झूठी धर्मनिरपेक्षता का चोला हमने उतार कर नहीं फेंका तो शायद पचास साल ही काफी होंगे हमारे लिए।*

*भाई साहब, उठिए… इस जाल से निकलने का प्रयास कीजिये, स्वयं को बचाने का प्रयास कीजिये। हम उस आखिरी पीढ़ी से हैं जो प्रतिरोध कर सकती है, हमारे बाद की पीढ़ी इस लायक भी नहीं बचेगी कि प्रतिकार कर सके

Ancient India and culture all over world

भारत बहुत प्राचीन देश है। विविधताओं से भरे इस देश में आज बहुत से धर्म, संस्कृतियां और लोग हैं। आज हम जैसा भारत देखते हैं अतीत में भारत ऐसा नहीं था भारत बहुत विशाल देश हुआ करता था। ईरान से इंडोनेशिया तक सारा हिन्दुस्थान ही था। समय के साथ-साथ भारत के टुकड़े होते चले गये जिससे भारत की संस्कृति का अलग-अलग जगहों में बटवारां हो गया। हम आपको उन देशों को नाम बतायेंगे जो कभी भारत के हिस्से थे।
ईरान – ईरान में आर्य संस्कृति का उद्भव 2000 ई. पू. उस वक्त हुआ जब ब्लूचिस्तान के मार्ग से आर्य ईरान पहुंचे और अपनी सभ्यता व संस्कृति का प्रचार वहां किया। उन्हीं के नाम पर इस देश का नाम आर्याना पड़ा। 644 ई. में अरबों ने ईरान पर आक्रमण कर उसे जीत लिया।

कम्बोडिया – प्रथम शताब्दी में कौंडिन्य नामक एक ब्राह्मण ने हिन्दचीन में हिन्दू राज्य की स्थापना की।


वियतनाम – वियतनाम का पुराना नाम चम्पा था। दूसरी शताब्दी में स्थापित चम्पा भारतीय संस्कृति का प्रमुख केंद्र था। यहां के चम लोगों ने भारतीय धर्म, भाषा, सभ्यता ग्रहण की थी। 1825 में चम्पा के महान हिन्दू राज्य का अन्त हुआ।


मलेशिया – प्रथम शताब्दी में साहसी भारतीयों ने मलेशिया पहुंचकर वहां के निवासियों को भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति से परिचित करवाया। कालान्तर में मलेशिया में शैव, वैष्णव तथा बौद्ध धर्म का प्रचलन हो गया। 1948 में अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त हो यह सम्प्रभुता सम्पन्न राज्य बना।


इण्डोनेशिया – इण्डोनिशिया किसी समय में भारत का एक सम्पन्न राज्य था। आज इण्डोनेशिया में बाली द्वीप को छोड़कर शेष सभी द्वीपों पर मुसलमान बहुसंख्यक हैं। फिर भी हिन्दू देवी-देवताओं से यहां का जनमानस आज भी परंपराओं के माधयम से जुड़ा है।


फिलीपींस – फिलीपींस में किसी समय भारतीय संस्कृति का पूर्ण प्रभाव था पर 15 वीं शताब्दी में मुसलमानों ने आक्रमण कर वहां आधिपत्य जमा लिया। आज भी फिलीपींस में कुछ हिन्दू रीति-रिवाज प्रचलित हैं।


अफगानिस्तान – अफगानिस्तान 350 इ.पू. तक भारत का एक अंग था। सातवीं शताब्दी में इस्लाम के आगमन के बाद अफगानिस्तान धीरे-धीरे राजनीतिक और बाद में सांस्कृतिक रूप से भारत से अलग हो गया।


नेपाल – विश्व का एक मात्र हिन्दू राज्य है, जिसका एकीकरण गोरखा राजा ने 1769 ई. में किया था। पूर्व में यह प्राय: भारतीय राज्यों का ही अंग रहा।


भूटान – प्राचीन काल में भूटान भद्र देश के नाम से जाना जाता था। 8 अगस्त 1949 में भारत-भूटान संधि हुई जिससे स्वतंत्र प्रभुता सम्पन्न भूटान की पहचान बनी।


तिब्बत – तिब्बत का उल्लेख हमारे ग्रन्थों में त्रिविष्टप के नाम से आता है। यहां बौद्ध धर्म का प्रचार चौथी शताब्दी में शुरू हुआ। तिब्बत प्राचीन भारत के सांस्कृतिक प्रभाव क्षेत्र में था। भारतीय शासकों की अदूरदर्शिता के कारण चीन ने 1957 में तिब्बत पर कब्जा कर लिया।


श्रीलंका – श्रीलंका का प्राचीन नाम ताम्रपर्णी था। श्रीलंका भारत का प्रमुख अंग था। 1505 में पुर्तगाली, 1606 में डच और 1795 में अंग्रेजों ने लंका पर अधिकार किया। 1935 ई. में अंग्रेजों ने लंका को भारत से अलग कर दिया।


म्यांमार (बर्मा) – अराकान की अनुश्रुतियों के अनुसार यहां का प्रथम राजा वाराणसी का एक राजकुमार था। 1852 में अंग्रेजों का बर्मा पर अधिकार हो गया। 1937 में भारत से इसे अलग कर दिया गया।


पाकिस्तान – 15 अगस्त, 1947 के पहले पाकिस्तान भारत का एक अंग था। हालांकि बटवारे के बाद पाकिस्तान में बहुत से हिन्दू मंदिर तोड़ दिये गये हैं, जो बचे भी हैं उनकी हालत बहुत ही जर्जर है। 


बांग्लादेश – बांग्लादेश भी 15 अगस्त 1947 के पहले भारत का अंग था। देश विभाजन के बाद पूर्वी पाकिस्तान के रूप में यह भारत से अलग हो गया। 1971 में यह पाकिस्तान से भी अलग हो गया।

Vedic scriptures and culture.


Revealed Vedic scriptures is original knowledge of this world but at present many Indians by believing in Aryan invasion theory, false western theories like Darwin evolution theory which Darwin himself could not prove and still remains challenged, are giving discredit to Vedic Sages. After independence atleast Indians should start believing in their culture & civilization then what western scientists say.

Perhaps Indians are ignorant about Puranic Manvantar history which calculates cyclical time as per 4 Yugas, Mahayugas, Manvantar & Kalpa and which disapproves evolution of humans from Apes which is a western Adamic-Abrahamic concept.

Infact advanced Aryan culture originated from the start of Bramha’s day during स्वयंभुव मनु or मन्वंतर in Northern India known as the land of ब्रम्हावर्त were the Vedic literatures were revealed to the Vedic Sages as is mentioned in Puranic history which are real history and not mythology.

The present 7th विवस्वान मन्वंतर started 120 million years ago and we are living now in 28 महायुग 5110 कलियुग year.

Vedic Aryans were never naked. Man was naked is western concept due to Out of Africa theory or Adamic history popular in West Asia in the dominant religion of Christianity and Islam. Sanatan Vedic Dharma God revealed Vedas to Aryans and God himself descended in various Avatars to protect Dharma from miscreants in various Yugas. So God cannot be created by humans. 

Manu is progenitor of mankind which is संस्कृत word from which english word Man or civilized human or मनुष्य or मानव having evovled mind originated in India known as Caucasoid or Aryan race in India while the Black race people originated in Africa and Mongols originated in East Asia.

UFO IN ANCIENT INDIA/BHARAT

Photo: #AIUFO Exclusive - MINDBOGGLING HINDU TECHNOLOGY #Vimanas #UFO  : PROOF ! ! ! Open your mind before u open your eyes . </p>
<p>The Rig Veda, the oldest document of the human race includes references to the following modes of transportation: Jalayan - a vehicle designed to operate in air and water (Rig Veda 6.58.3); Kaara- Kaara- Kaara- a vehicle that operates on ground and in water. (Rig Veda 9.14.1); Tritala- Tritala- Tritala- a vehicle consisting of three stories. (Rig Veda 3.14.1); Trichakra Ratha - Trichakra Ratha - Trichakra Ratha - a three-wheeled vehicle designed to operate in the air. (Rig Veda 4.36.1); Vaayu Ratha- Vaayu Ratha- Vaayu Ratha- a gas or wind-powered chariot. (Rig Veda 5.41.6); Vidyut Ratha- Vidyut Ratha- Vidyut Ratha- a vehicle that operates on power. (Rig Veda 3.14.1).</p>
<p>Sage Agastya is mentioned in Mahabharata of 4000 BC. The "Agastya Samhita" gives us Agastya`s descriptions of two types of aeroplanes. The first is a "chchatra" (umbrella or balloon) to be filled with hydrogen. The process of extracting hydrogen from water is described in elaborate detail and the use of electricity in achieving this is clearly stated. This was stated to be a primitive type of plane, useful only for escaping from a fort when the enemy had set fire to the jungle all around. Hence the name "Agniyana". The second type of aircraft mentioned is somewhat on the lines of the parachute. It could be opened and shut by operating chords. This aircraft has been described as "vimanadvigunam" i.e. of a lower order than the regular aeroplane. </p>
<p>Maharishi Bharadwaja is one of the Sapt Rishis and the guru of Dronacharya of Mahabharata , who lived in 4200 BC.  Bharadwaja states that there are thirty-two secrets of the science of aeronautics. Of these some are astonishing and some indicate an advance even beyond our own times. For instance the secret of "para shabda graaha", i.e. a cabin for listening to conversation in another plane, has been explained by elaborately describing an electrically worked sound-receiver .  Later in modern times, this was re-discovered by Nikola Tesla.</p>
<p>In "shatru vimana kampana kriya" and "shatru vimana nashana kriya" gves details on resonating and destroying enemy aircraft,  as well as photographing enemy planes, rendering their occupants unconscious and making one`s own plane invisible. In Vastraadhikarana, the chapter describing the dress and other wear required while flying, talks in detail about the wear for both the pilot and the passenger separately.</p>
<p>In Srimad Bhagavatam it is described that a great mystic named Kardama Muni created an entire floating city in which he and his wife toured around the world. Another Rishi Maya Danava built an entire flying city for Salva. Among other wonderful qualities it possessed the following:<br />
A special navigation system for seeing at night, high speed capability to avoid detection from the ground, and the ability to become either completely invisible or to appear as if there were many copies of it flying in the sky.</p>
<p>The astras or ancient scalar interferometry missiles were far superior in the respect that it can be directed to search and destroy one person, in contrast to the modern nuclear weapons which kill thousands of innocent people indiscriminately. The Brahmastra is created and directed by longitudinal wave , sound vibration. Only highly evolved seers are given the Mantras  to trigger a Brahmastra, as it involves resonating the 12 strand DNA with a king sized pineal gland.</p>
<p>Vedic Vimanas or flying saucers used mercury vortex ion engines. The ion engine was first demonstrated by German-born NASA scientist Ernst Stuhlinger.  The Vedic texts were taken to Germany by Hermann Gundert.</p>
<p>The use of ion propulsion systems were first demonstrated in space by the NASA Lewis “ Space Electric Rocket Test SERT.. These thrusters used mercury as the reaction mass. The first was SERT 1, launched July 20, 1964, successfully proved that the technology operated as predicted in space. The second test, SERT-II, launched on February 3, 1970, verified the operation of two mercury ion engines for thousands of running hours.

The Rig Veda, the oldest document of the human race includes references to the following modes of transportation: Jalayan – a vehicle designed to operate in air and water (Rig Veda 6.58.3); Kaara- Kaara- Kaara- a vehicle that operates on ground and in water. (Rig Veda 9.14.1); Tritala- Tritala- Tritala- a vehicle consisting of three stories. (Rig Veda 3.14.1); Trichakra Ratha – Trichakra Ratha – Trichakra Ratha – a three-wheeled vehicle designed to operate in the air. (Rig Veda 4.36.1); Vaayu Ratha- Vaayu Ratha- Vaayu Ratha- a gas or wind-powered chariot. (Rig Veda 5.41.6); Vidyut Ratha- Vidyut Ratha- Vidyut Ratha- a vehicle that operates on power. (Rig Veda 3.14.1).

Sage Agastya is mentioned in Mahabharata of 4000 BC. The “Agastya Samhita” gives us Agastya`s descriptions of two types of aeroplanes. The first is a “chchatra” (umbrella or balloon) to be filled with hydrogen. The process of extracting hydrogen from water is described in elaborate detail and the use of electricity in achieving this is clearly stated. This was stated to be a primitive type of plane, useful only for escaping from a fort when the enemy had set fire to the jungle all around. Hence the name “Agniyana”. The second type of aircraft mentioned is somewhat on the lines of the parachute. It could be opened and shut by operating chords. This aircraft has been described as “vimanadvigunam” i.e. of a lower order than the regular aeroplane.

Maharishi Bharadwaja is one of the Sapt Rishis and the guru of Dronacharya of Mahabharata , who lived in 4200 BC. Bharadwaja states that there are thirty-two secrets of the science of aeronautics. Of these some are astonishing and some indicate an advance even beyond our own times. For instance the secret of “para shabda graaha”, i.e. a cabin for listening to conversation in another plane, has been explained by elaborately describing an electrically worked sound-receiver . Later in modern times, this was re-discovered by Nikola Tesla.

In “shatru vimana kampana kriya” and “shatru vimana nashana kriya” gves details on resonating and destroying enemy aircraft, as well as photographing enemy planes, rendering their occupants unconscious and making one`s own plane invisible. In Vastraadhikarana, the chapter describing the dress and other wear required while flying, talks in detail about the wear for both the pilot and the passenger separately.

In Srimad Bhagavatam it is described that a great mystic named Kardama Muni created an entire floating city in which he and his wife toured around the world. Another Rishi Maya Danava built an entire flying city for Salva. Among other wonderful qualities it possessed the following:
A special navigation system for seeing at night, high speed capability to avoid detection from the ground, and the ability to become either completely invisible or to appear as if there were many copies of it flying in the sky.

The astras or ancient scalar interferometry missiles were far superior in the respect that it can be directed to search and destroy one person, in contrast to the modern nuclear weapons which kill thousands of innocent people indiscriminately. The Brahmastra is created and directed by longitudinal wave , sound vibration. Only highly evolved seers are given the Mantras to trigger a Brahmastra, as it involves resonating the 12 strand DNA with a king sized pineal gland.

Vedic Vimanas or flying saucers used mercury vortex ion engines. The ion engine was first demonstrated by German-born NASA scientist Ernst Stuhlinger. The Vedic texts were taken to Germany by Hermann Gundert.

The use of ion propulsion systems were first demonstrated in space by the NASA Lewis “ Space Electric Rocket Test SERT.. These thrusters used mercury as the reaction mass. The first was SERT 1, launched July 20, 1964, successfully proved that the technology operated as predicted in space. The second test, SERT-II, launched on February 3, 1970, verified the operation of two mercury ion engines for thousands of running hours