Truth of Shahjaha and Taj Mahal in Hindi

”शाहजहाँ के हरम में ८००० रखैलें थीं जो उसे उसके पिता जहाँगीर से विरासत में मिली थी। उसने बाप की सम्पत्ति को और बढ़ाया। उसने हरम की महिलाओं की व्यापक छाँट की तथा बुढ़ियाओं को भगा कर और अन्य हिन्दू परिवारों से बलात लाकर हरम को बढ़ाता ही रहा।”

(अकबर दी ग्रेट मुगल : वी स्मिथ, पृष्ठ ३५९)

कहते हैं कि उन्हीं भगायी गयी महिलाओं से दिल्ली का रेडलाइट एरिया जी.बी. रोड गुलजार हुआ था और वहाँ इस धंधे की शुरूआत हुई थी।
जबरन अगवा की हुई हिन्दू महिलाओं की यौन-गुलामी और यौन व्यापार को शाहजहाँ प्रश्रय देता था, और अक्सर अपने मंत्रियों और सम्बन्धियों को पुरस्कार स्वरूप अनेकों हिन्दू महिलाओं को उपहार में दिया करता था।

यह नर पशु, यौनाचार के प्रति इतना आकर्षित और उत्साही था, कि हिन्दू महिलाओं का मीना बाजार लगाया करता था, यहाँ तक कि अपने महल में भी।

सुप्रसिद्ध यूरोपीय यात्री फ्रांकोइस बर्नियर ने इस विषय में टिप्पणी की थी कि, ”महल में बार-बार लगने वाले मीना बाजार, जहाँ अगवा कर लाई हुई सैकड़ों हिन्दू महिलाओं का, क्रय-विक्रय हुआ करता था, राज्य द्वारा बड़ी संख्या में नाचने वाली लड़कियों की व्यवस्था, और नपुसंक बनाये गये सैकड़ों लड़कों की हरमों में उपस्थिती, शाहजहाँ की अनंत वासना के समाधान के लिए ही थी।

(टे्रविल्स इन दी मुगल ऐम्पायर- फ्रान्कोइस बर्नियर :पुनः लिखित वी. स्मिथ, औक्सफोर्ड १९३४)
शाहजहाँ को प्रेम की मिसाल के रूप पेश किया जाता रहा है और किया भी क्यों न जाए ,८००० औरतों को अपने हरम में रखने वाला अगर किसी एक में ज्यादा रुचि दिखाए तो वो उसका प्यार ही कहा जाएगा।
आप यह जानकर हैरान हो जायेंगे कि मुमताज का नाम मुमताज महल था ही नहीं बल्कि उसका असली नाम “अर्जुमंद-बानो-बेगम” था।

और तो और जिस शाहजहाँ और मुमताज के प्यार की इतनी डींगे हांकी जाती है वो शाहजहाँ की ना तो पहली पत्नी थी ना ही आखिरी ।

मुमताज शाहजहाँ की सात बीबियों में चौथी थी । इसका मतलब है कि शाहजहाँ ने मुमताज से पहले 3 शादियाँ कर रखी थी और, मुमताज से शादी करने के बाद भी उसका मन नहीं भरा तथा उसके बाद भी उस ने 3 शादियाँ और की यहाँ तक कि मुमताज के मरने के एक हफ्ते के अन्दर ही उसकी बहन फरजाना से शादी कर ली थी। जिसे उसने रखैल बना कर रखा हुआ था जिससे शादी करने से पहले ही शाहजहाँ को एक बेटा भी था।

अगर शाहजहाँ को मुमताज से इतना ही प्यार था तो मुमताज से शादी के बाद भी शाहजहाँ ने 3 और शादियाँ क्यों की….?????

अब आप यह भी जान लो कि शाहजहाँ की सातों बीबियों में सबसे सुन्दर मुमताज नहीं बल्कि इशरत बानो थी जो कि उसकी पहली पत्नी थी। उस से भी घिनौना तथ्य यह है कि शाहजहाँ से शादी करते समय मुमताज कोई कुंवारी लड़की नहीं थी बल्कि वो शादीशुदा थी और, उसका पति शाहजहाँ की सेना में सूबेदार था जिसका नाम “शेर अफगान खान” था। शाहजहाँ ने शेर अफगान खान की हत्या कर मुमताज से शादी की थी।
गौर करने लायक बात यह भी है कि ३८ वर्षीय मुमताज की मौत कोई बीमारी या एक्सीडेंट से नहीं बल्कि चौदहवें बच्चे को जन्म देने के दौरान अत्यधिक कमजोरी के कारण हुई थी। यानी शाहजहाँ ने उसे बच्चे पैदा करने की मशीन ही नहीं बल्कि फैक्ट्री बनाकर मार डाला।
शाहजहाँ कामुकता के लिए इतना कुख्यात था, की कई

इतिहासकारों ने उसे उसकी अपनी सगी बेटी जहाँआरा के साथ स्वयं सम्भोग करने का दोषी कहा है।

शाहजहाँ और मुमताज महल की बड़ी बेटी जहाँआरा बिल्कुल अपनी माँ की तरह लगती थी। इसीलिए मुमताज की मृत्यु के बाद उसकी याद में लम्पट शाहजहाँ ने अपनी ही बेटी जहाँआरा को फंसाकर भोगना शुरू कर दिया था।

जहाँआरा को शाहजहाँ इतना प्यार करता था कि उसने उसका निकाह तक होने न दिया।

बाप-बेटी के इस प्यार को देखकर जब महल में चर्चा शुरू हुई, तो मुल्ला-मौलवियों की एक बैठक बुलाई गयी और उन्होंने इस पाप को जायज ठहराने के लिए एक हदीस का उद्धरण दिया और कहा कि – “माली को अपने द्वारा लगाये पेड़ का फल खाने का हक़ है”।

(Francois Bernier wrote, ” Shah Jahan used to have regular sex with his eldest daughter Jahan Ara.

To defend himself, Shah Jahan used to say that, it was the privilege of a planter to taste the fruit of the tree he had planted.”)
इतना ही नहीं जहाँआरा के किसी भी आशिक को वह उसके पास फटकने नहीं देता था।

कहा जाता है की एकबार जहाँआरा जब अपने एक आशिक के साथ इश्क लड़ा रही थी तो शाहजहाँ आ गया जिससे डरकर वह हरम के तंदूर में छिप गया, शाहजहाँ ने

तंदूर में आग लगवा दी और उसे जिन्दा जला दिया।

दरअसल अकबर ने यह नियम बना दिया था, की मुगलिया खानदान की बेटियों की शादी नहीं होगी। इतिहासकार इसके लिए कई कारण बताते हैं। इसका परिणाम यह होता था, की मुग़ल खानदान की लड़कियां अपने जिस्मानी भूख मिटाने के लिए अवैध तरीके से दरबारी, नौकर के साथ साथ, रिश्तेदार यहाँ तक की सगे सम्बन्धियों का भी सहारा लेती थी।, जहाँआरा अपने बाप शाहजहाँ के लिए लड़कियाँ भी फंसाकर लाती थी। जहाँआरा की मदद से शाहजहाँ ने मुमताज के भाई शाइस्ता खान की बीबी से कई बार बलात्कार किया था।
शाहजहाँ के राजज्योतिष की 13 वर्षीय ब्राह्मण लडकी को जहाँआरा ने अपने महल में बुलाकर धोखे से नशा करा बाप के हवाले कर दिया था जिससे शाहजहाँ ने 58 वें वर्ष में उस 13 बर्ष की ब्राह्मण कन्या से निकाह किया था। बाद में इसी ब्राहम्ण कन्या ने शाहजहाँ के कैद होने के बाद औरंगजेब से बचने और एक बार फिर से हवस की सामग्री बनने से खुद को बचाने के लिए अपने ही हाथों अपने चेहरे पर तेजाब डाल लिया था।
शाहजहाँ शेखी मारा करता था कि ‘ ‘वह तिमूर (तैमूरलंग)

का वंशज है जो भारत में तलवार और अग्नि लाया था।

उस उजबेकिस्तान के जंगली जानवर तिमूर से और उसकी हिन्दुओं के रक्तपात की उपलब्धि से इतना प्रभावित था कि ”उसने अपना नाम तिमूर द्वितीय रख लिया”

(दी लीगेसी ऑफ मुस्लिम रूल इन इण्डिया- डॉ. के.

एस. लाल, १९९२ पृष्ठ- १३२).
बहुत प्रारम्भिक अवस्था से ही शाहजहाँ ने काफिरों (हिन्दुओं) के प्रति युद्ध के लिए साहस व रुचि दिखाई थी।

अलग-अलग इतिहासकारों ने लिखा था कि, ”शहजादे के

रूप में ही शाहजहाँ ने फतेहपुर सीकरी पर अधिकार कर

लिया था और आगरा शहर में हिन्दुओं का भीषण नरसंहार किया था ।

भारत यात्रा पर आये देला वैले, इटली के एक धनी व्यक्ति के अुनसार –

शाहजहाँ की सेना ने भयानक बर्बरता का परिचय कराया था। हिन्दू नागरिकों को घोर यातनाओं द्वारा अपने संचित धन को दे देने के लिए विवश किया गया, और अनेकों उच्च कुल की कुलीन हिन्दू महिलाओं का शील भंग किया गया।”

(कीन्स हैण्ड बुक फौर विजिटर्स टू आगरा एण्ड इट्स

नेबरहुड, पृष्ठ २५)
हमारे वामपंथी इतिहासकारों ने शाहजहाँ को एक महान निर्माता के रूप में चित्रित किया है। किन्तु इस मुजाहिद ने अनेकों कला के प्रतीक सुन्दर हिन्दू मन्दिरों और अनेकों हिन्दू भवन निर्माण कला के केन्द्रों का बड़ी लगन और जोश से विध्वंस किया था।

अब्दुल हमीद ने अपने इतिहास अभिलेख, ‘बादशाहनामा’ में लिखा था-

‘महामहिम शहंशाह महोदय की सूचना में लाया गया कि हिन्दुओं के एक प्रमुख केन्द्र, बनारस में उनके अब्बा हुजूर के शासनकाल में अनेकों मन्दिरों के पुनः निर्माण का काम प्रारम्भ हुआ था और काफिर हिन्दू अब उन्हें पूर्ण कर देने के निकट आ पहुँचे हैं।

इस्लाम पंथ के रक्षक, शहंशाह ने आदेश दिया कि बनारस में और उनके सारे राज्य में अन्यत्र सभी स्थानों पर जिन मन्दिरों का निर्माण कार्य आरम्भ है,उन सभी का विध्वंस कर दिया जाए।

इलाहाबाद प्रदेश से सूचना प्राप्त हो गई कि जिला बनारस के छिहत्तर मन्दिरों का ध्वंस कर दिया गया था।”

(बादशाहनामा : अब्दुल हमीद लाहौरी, अनुवाद एलियट और डाउसन, खण्ड VII, पृष्ठ ३६)
हिन्दू मंदिरों को अपवित्र करने और उन्हें ध्वस्त करने

की प्रथा ने शाहजहाँ के काल में एक व्यवस्थित विकराल रूप धारण कर लिया था।

(मध्यकालीन भारत – हरीश्चंद्र वर्मा – पेज-१४१)
”कश्मीर से लौटते समय १६३२ में शाहजहाँ को बताया गया कि अनेकों मुस्लिम बनायी गयी महिलायें फिर से हिन्दू हो गईं हैं और उन्होंने हिन्दू परिवारों में शादी कर ली है।

शहंशाह के आदेश पर इन सभी हिन्दुओं को बन्दी बना लिया गया। प्रथम उन सभी पर इतना आर्थिक दण्ड थोपा गया कि उनमें से कोई भुगतान नहीं कर सका।

तब इस्लाम स्वीकार कर लेने और मृत्यु में से एक को चुन लेने का विकल्प दिया गया। जिन्होनें धर्मान्तरण स्वीकार नहीं किया, उन सभी पुरूषों का सर काट दिया गया। लगभग चार हजार पाँच सौं महिलाओं को बलात् मुसलमान बना लिया गया और उन्हें सिपहसालारों, अफसरों और शहंशाह के नजदीकी लोगों और रिश्तेदारों के हरम में भेज दिया गया।”

(हिस्ट्री एण्ड कल्चर ऑफ दी इण्डियन पीपुल : आर.

सी. मजूमदार, भारतीय विद्या भवन, पृष्ठ ३१२)
१६५७ में शाहजहाँ बीमार पड़ा और उसी के बेटे औरंगजेब ने उसे उसकी रखैल जहाँआरा के साथ आगरा के किले में बंद कर दिया । परन्तु औरंगजेब मे एक आदर्श बेटे का भी फर्ज निभाया और अपने बाप की कामुकता को समझते हुए उसे अपने साथ ४० रखैलें (शाही वेश्याएँ) रखने की इजाजत दे दी। और दिल्ली आकर उसने बाप के हजारों रखैलों में से कुछ गिनी चुनी औरतों को अपने हरम में डालकर बाकी सभी को उसने किले से बाहर निकाल दिया।

उन हजारों महिलाओं को भी दिल्ली के उसी हिस्से में पनाह मिली जिसे आज दिल्ली का रेड लाईट एरिया जीबी रोड कहा जाता है। जो उसके अब्बा शाहजहाँ की मेहरबानी से ही बसा और गुलजार हुआ था ।
शाहजहाँ की मृत्यु आगरे के किले में ही २२ जनवरी १६६६ ईस्वी में ७४ साल की उम्र में द हिस्ट्री चैनल के अनुसार अत्यधिक कमोत्तेजक दवाएँ खा लेने का कारण हुई थी। यानी जिन्दगी के आखिरी वक्त तक वो अय्याशी ही करता रहा था।

अब आप खुद ही सोचें कि क्यों ऐसे बदचलन और दुश्चरित्र इंसान को प्यार की निशानी समझा कर महान

बताया जाता है…… ?????

क्या ऐसा बदचलन इंसान कभी किसी से प्यार

कर सकता है….?????

क्या ऐसे वहशी और क्रूर व्यक्ति की अय्याशी की कसमें

खाकर लोग अपने प्यार को बे-इज्जत नही करते हैं ??

दरअसल ताजमहल और प्यार की कहानी इसीलिए गढ़ी गयी है कि लोगों को गुमराह किया जा सके और लोगों खास कर हिन्दुओं से छुपायी जा सके कि ताजमहल कोई प्यार की निशानी नहीं बल्कि महाराज जय सिंह द्वारा बनवाया गया भगवान् शिव का मंदिर “”तेजो महालय”” है जिसे तोड़कर उसके उपर ताजमहल का निर्माण किया गया।

और जिसे प्रमाणित करने के लिए डा० सुब्रहमण्यम स्वामी आज भी सुप्रीम कोर्ट में सत्य की लड़ाई लड़ रहे हैं।

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर वामपंथी इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया। और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

Advertisements

DHRUV STAMBH NOT QUTUB MINAR

"Photo:

VIJAY STAMBHA ~ OF EMPEROR VIKRAMADITYA ~~ TRUTH OF FALSE QUTUB MINAR

The complex is supposed to be built by the Greatest of Hindu emperors there was MaharajaDhiraj Vikramaditya of Ujjaini , brother of Bharathiri the Kind and Philosopher and originator of Bharathari neeti shataka . The tower is known to have been errected to celebrate the victory of the Great Emperor Vikramaditya , over the lands now called as Arab lands . They have known to celebrate the coming of the vedic way of life .

Vedic culture was very much alive just before the birth of Muhammad. Again let’s refer to the Sair-Ul-Okul. The following poem was written by Jirrham Bintoi who lived 165 years before the prophet Muhammed. It is in praise of India’s great King Vikramaditya who had lived 500 years before Bintoi.

“Itrasshaphai Santul
Bikramatul phehalameen Karimun
Bihillahaya Samiminela
Motakabbenaran Bihillaha
Yubee qaid min howa
Yaphakharu phajgal asari
nahans Osirim Bayjayholeen
Yaha sabdunya Kanateph natephi
bijihalin Atadari Bilala masaurateen
phakef Tasabahu. Kaunni eja majakaralhada
– (Sair-ul-Okul, Page 315)

“Fortunate are those who were born during King Vikram’s reign, he was a noble generous, dutiful ruler devoted to the welfare of his subjects. But at that time, We Arabs oblivious of divinity were lost in sensual pleasures. Plotting & torture were rampant. The darkness of ignorance had enveloped our country. Like the lamb struggling for its life in the cruel jaws of a wolf, we Arabs were gripped by ignorance. The whole country was enveloped in a darkness as intense as on a New moon night. But the present dawn & pleasant sunshine of education is the result of the favor of that noble king Vikram whose benevolence did not lose sight of us foreigners as we were. He spread his sacred culture amongst us and sent scholars from his own land whose brilliance shone like that of the sun in our country. These scholars & preceptors through whose benevolence we were once again made aware of the presence of god, introduced to his secret knowledge & put on the road to truth, had come to our country to initiate us in that culture & impart education.”

Thus we can see that Vedic religion and culture were present in Pre-Islamic Arabia as early as 1850 B.C., and definitely present at the time of Mohammed’s birth.
The Iron Pillar served an important astronomical function, when it was originally at Vishnupadagiri. The early morning shadow of the Iron Pillar fell in the direction of the foot of Anantasayain Vishnu (in one of the panels at Udayagiri) only in the time around summer solstice (June 21).Dhillika is the old name of India’s capital, New Delhi. The name Delhi is derived from the word ‘Dhillika’.The Iron Pillar ,a symbol of Truth and Nemesis-God Shani of Hindu Religion was brought by Anang Pal of Tomar dynasty to Delhi to establish rule of Clean,truthful and honest governance,from Mathura a land of Krishna devotion.The idea behind it was to establish an orientation to the great epic Mahabharata whic

h is connected to the history of Delhi as well as the significance of Gita,and Yudhishtra’s ascent to heaven in bodily form; from Swargya Rohini..The Hindu rulers built temples and used psychological epigraphs and monuments to instill religion in the local The Iron pillar bears an inscription in Sanskrit which states that it was erected as a standard in honour of the Hindu god, Vishnu. It also praises the valor and qualities of a king referred to simply as Chandra, who has been identified with the Gupta King Chandragupta II Vikramaditya (375-413).

The reference was also to the Satvikka Purana [Smirti Texts of Hinduism]called Garuda Purana which is recited as a cremation ritual.The Garuda atop the pillar ,which was removed by muslims,bore testimony to what was inscribed and its relevance to the installation of the pillar.The pillar was used to signify the death principle of Hindus,the need for attaining Mokhsha and the path of Dharma. The iron pillar was the Garud Dhwaj alias Garud Stambh, i.e, the sentinel post of the Vishnu temple. The Sanskrit inscription in Brahmi script on the non-rusting iron pillar proclaimed the lofty standards of Vishnu on Vishnupad Giri. Here in the said precincts ,the description indicates that a statue of the rec- lining Vishnu ;initiating the creation was consecrated in the central shrine there which was ravaged by Mohammad Ghori and his henchman Qutubuddin.

Truth revealed from sky . People usually see this tower from ground. Prof Bhatnagar hired a helicopter and took a photo from the sky. That is when he realised that is a blooming lotus flower.